150+ Best Motivational Shayari – On Life, Students & Encouragement

Everyone at some point in time feels disheartened in life. It is those points where motivation helps you to get going. Browse these motivational Shayari to climb higher in life.

Also, share them with your friends to uplift their mood.

Looking for more Shayari? Browse through our Shayari about life, Love Shayari, & Dosti Shayari.

Motivational shayari with images

1

यक़ीन हो तो कोई रास्ता निकलता है,
हवा की ओट भी ले कर चराग़ जलता है।

2

जो मुस्कुरा रहा है,
उसे दर्द ने पाला होगा,
जो चल रहा है उसके पाँव में ज़रूर छाला होगा,
बिना संघर्ष के चमक नहीं मिलती,
जो जल रहा है तिल-तिल,
उसी दीए में उजाला होगा…

3

नजर को बदलो तो नजारे बदल जाते है,
सोच को बदलो तो सितारे बदल जाते है!!
कश्तियां बदलने की जरूरत नहीं दिशा को
बदलो तो किनारे खुद-ब-खुद बदल जाते हैं!!

4

मुझे आसमानो में उड़ने का शोक हैं,
परिंदो के बीच खेलने का शोक हैं,
अगर मुझे जानना हो तो जरा दूर से ही जानना
मैं परवाना हूँ,
मुझे आग में जलने का शोक हैं!

5

मत सोच की तेरा सपना क्यों पूरा नहीं होता,
हिम्मत वालों का इरादा कभी अधूरा नहीं होता,
जिस इंसान के करम अच्छे होते है,
उसके जीवन में कभी अँधेरा नहीं होता।

6

शमा परवाने को जलाना सिखाती है,
शाम सूरज को ढलना सिखाती है,
मुसाफिर को ठोकरों से होती तो हैं तकलीफें,
लेकिन ठोकरें ही एक मुसाफिर को चलना सिखाती हैं।

7

बड़ा सोचो ,
जल्दी सोचो ,
आगे सोचो .
विचारों पर किसी का एकाधिकार नहीं है .

8

मंज़िल तो मिल ही जायेगी भटक के ही सही,
गुमराह तो वो हैं जो घर से निकले ही नहीं।

9

“मंजिल उन्हीं को मिलती है,
जिनके सपनों में जान है।
पंख से कुछ नहीं होता,
हौसलो से ही ‘उड़ान‘ है।.”

10

मेरे हाथों की लकीरों के इज़ाफ़े हैं गवाह,
मैने पत्थर की तरह खुद को तराशा है बहुत।

11

छू ले आसमान ज़मीन की तलाश न कर,
जी ले ज़िंदगी खुशी की तलाश न कर,
तकदीर बदल जाएगी खुद ही मेरे दोस्त,
मुस्कुराना सीख ले वजह की तलाश ना कर।

12

जिंदगी में कभी किसी अपने का साथ मत छोड़ना,
जिंदगी में कभी किसी का दिल मत तोड़ना,
बस जिंदगी तो उसे ही कहते हैं,
जो एक पल में सारा जहां जी लेते हैं।

13

बढ़ के तूफ़ान को आगोश में ले ले अपने,
डूबने वाले तेरे हाथ से साहिल तो गया।

14

ज़िंदा रहना है तो हालात से डरना कैसा,
जंग लाज़िम हो तो लश्कर नहीं देखे जाते।

15

हर ज़ुबा पर एक दिन तेरा ही नाम होगा,
हर कदम पर तेरी दुनिया को सलाम होगा,
हर मुसीबत का सामना करना तू डट कर,
तू देखना समय तेरा भी गुलाम होगा।

16

ज़िन्दगी में जब आप सही होतें हैं
तो इसे कोई याद नही रखता,
और जिंदगी में जब आप गलत हो जाते है
तो इसे कोई नही भूलता।

17

परिंदा कहता है अपने पँखो को खोलकर,
अभी तो पूरी उड़ान बाकी है,
अभी तो एक मुट्ठी ज़मीन ही ली है,
अभी तो पूरा आसमान बाकी है।
लहरों को शांत समझ कर ये
मत सोचना के उसमे रवानी नही है,
समुद्र में जितनी गहराई है
उतना ही उसके ऊपर तूफान बाकी है।

18

सबब तलाश करो… अपने हार जाने का,
किसी की जीत पर रोने से कुछ नहीं होगा।

19

पतझड़ हुए बिना पेड़ों पर नए पत्ते नहीं आते,
कठिनाई और संघर्ष सहे बिना अच्छे दिन नहीं आते।

20

पैसे को दिमाग मे नही जेब मे रखना चाहये,
रिश्तों को खुले में नही दिलों में रखना चाहिये।

21

लहरों का शांत देखकर ये मत समझना,
की समंदर में रवानी नहीं है,
जब भी उठेंगे तूफ़ान बनकर उठेंगे,
अभी उठने की ठानी नहीं है

22

सुखं दुःख की धुप छाँव से आगे निकल के देख,
इन ख्वाइशों के गाँव से आगे निकल के देख,
तूफ़ान क्या डुबोयेगा तेरी कश्ती को,
आंधी की हवाओं से आगे निकल के देख।

23

इन्ही ज़र्रों से कल होंगे
नए कुछ कारवान पैदा,
जो ज़र्रे आज उड़ते हैं
गुबार इ करवान होकर।

24

हर मील के पत्थर पर लिख दो यह इबारत,
मंजिल नहीं मिलती नाकाम इरादों से।

25

कहती है दुनिया बस अब हार मान जा,
उम्मीद पुकारती है बस एक बार और सही।

26

कल एक झलक जिंदगी को देखा,
वो राहों पे मेरी गुनगुना रही थी,
फिर ढूंढा उसे इधर उधर
वो आँख मिचौली कर मुस्कुरा रही थी,
एक अरसे के बाद आया मुझे करार,
वो सहला के मुझे सुला रही थी…
हम दोनों क्यूँ खफा हैं एक दूसरे से,
मैं उसे और वो मुझे समझा रही थी,
मैंने पूछ लिया – क्यों इतना दर्द दिया
वो हँसी और बोली – मैं जिंदगी हूँ…..
जो की तुझे जीना सिखा रही थी…..

27

जिंदगी बहुत खूबसूरत है,
जिंदगी से प्यार करो,
अगर हो रात तो,
सुबह का इंतजार करो,
वो पल भी आएगा जिसका तुझे इंतेज़ार है,
बस उस खुदा पर भरोसा और वक्त पर ऐतवार करो।

28

निगाहों में मन्ज़िले हैं,
सामने कठिन रास्ते हैं,
लेकिन मैं हर मुश्किल से उलझ गया,
और मैं सबसे आगे निकल गया।

29

जब टूटने लगे हौंसला तो बस यह याद रखना,
बिना मेहनत के हासिल तख़्त-ओ-ताज नहीं होते,
ढूंढ लेना अंधेरे में ही मंजिल अपनी दोस्तों,
क्यूंकि जुगनू कभी रौशनी के मोहताज नहीं होते।

30

गुजरी हुई जिंदगी को कभी याद ना कर,
तकदीर में जो लिखा है उसकी फरियाद ना कर,
जो होगा वो होकर रहेगा,
तु कल की फिकर में अपनी आज की हंसी बर्बाद ना कर!

31

आंधियों को जिद है जहां बिजलियां गिराने की,
मुझे भी जिद है,
वही आशियां बसाने की हिम्मत और हौंसले बुलंद है,
खड़ा हॅू अभी गिरा नही हॅू! अभी जंग बाकी है,
और मै हारा भी नही हॅू!

32

जब टूटने लगे हौंसला तो बस यह याद रखना,
बिना मेहनत के हासिल तख़्त-ओ-ताज नहीं होते,
ढूंढ लेना अंधेरे में ही मंजिल अपनी दोस्तों,
क्यूंकि जुगनू कभी रौशनी के मोहताज नहीं होते।

33

आज तेरे लिए वक्त का इशारा है,
देखता ये जहां सारा है,
फिर भी तुझे रास्तों की तलाश है,
आज फिर तुझे मंज़िलो ने पुकारा है।

34

ऐ दोस्त मत सोच इतना जिन्दगी के बारे में,
जिसने जिन्दगी दी है उसने भी तो कुछ सोचा होगा।

35

जो गुज़र गया उसे याद मत करो,
मुक्कदर में जो लिखा है उसकी फ़रयाद मत करो,
मुक्कदर में जो लिखा है वो होकर रहेगा,
तुम कल के चक्कर में आज को बर्बाद न करो।

36

इस संसार में जो कुछ है,
सब अपना है।
हमारी जिन्दगी यही पर खत्म नहीं होती,
क्योंकि हमें आसमान को छूना हैं।।”
हौसलें बुलन्द कर के रास्तों पर चल दे।
तुझे तेरा मुकाम मिल जयेगा,
अकेला
तू पहल कर देख तो काफिला खुद ब खुद बन जायेगा।।
मायूस होकर ना अपने उम्मीदों का दामन छोड़,
वरना खुदा भी नाराज हो जायेगा,
ठोकरों से न तू घबरा,
हर पड़ाव पर
अपने आप को और मजबूत पायेगा।।
नाकामयाबी की धुंध से न घबराना,
तेरी कामयाबी का सूरज
तेरी तकदीर रौशन कर जायेगा।।

37

तू रख यकीन बस अपने इरादों पर,
तेरी हार तेरे हौसलों से तो बड़ी नहीं होगी।

38

तिनका हूँ तो क्या हुआ,
वजूद है मेरा,
उड़-उड़ कर हवा का रूख तो बताता हूँ।

39

इस दुनिया में कोई खुशियों की चाह में रोता है,
कोई गमो की पनाह में रोता है,
अजीब ज़िन्दगी का सिलसिला है,
कोई भरोसे के लिए रोता है,
कोई भरोसा करके रोता है।

40

पंख फैलाये हुए मौर बहुत देखे है,
घन पे छाये घनघोर बहुत देखे है,
नाला कहता है समंदर से उमड़ना सीखो,
हमने बरसात के ये शौर बहुत देखे है!

41

मंजिल मिले न मिले,
ये तो मुकद्दर की बात है
हम कोशिश ही न करे ये तो गलत बात है।

42

ज़िंदा रहना है तो
हालात से डरना कैसा,
जंग लाज़िम हो तो
लष्कर नहीं देखे जाते।

43

हमने तो सच्चे क़िस्से शराब खाने मे सुने,
वो भी हाथो में जाम लेकर और हमने तो
झूठे किस्से अदालत में सुने
वो भी गीता और कुरान लेकर।

44

संघर्ष में आदमी अकेला होता है,
सफलता में दुनिया उसके साथ होती है,
जिस-जिस पर ये जग हँसा है,
उसीने इतिहास रचा है…

45

गम की अंधेरी रात में दिल को तू न बेकरार कर,
ऐ नादान ! सुबह ज़रूर आएगी,
तू सुबह तक का तो इंतेज़ार कर।

46

कामयाबी के दरवाजे उन्हीं के लिए खुलते हैं जो
उन्हें खटखटाने की ताकत रखते हैं

47

मुश्किलें जरुर हैं मगर ठहरा नहीं हूँ मैं,
मंज़िल से जरा कह दो अभी पहुंचा नहीं हूँ मैं।

48

कितने भी दलदल हों ज़िन्दगी में पैर जमाये ही रखना,
चाहे हाथ खाली हो ज़िन्दगी में लेकिन उसे उठाये ही रखना,
कौन कहता है छलनी में पानी रुक नही सकता,
अपना हौसला बर्फ़ जमने तक बनाये रखना।

49

कई लोग मुझको गिराने मे लगे है,
सरे शाम चिराग भुझाने मे लगे है,
उन से कह दो क़तरा नही मैँ समन्द्र हूँ,
डूब गये वो ख़ुद जो डूबाने मे लगे है!

Motivational Shayari for students

50

चलता रहूँगा पथ पर,
चलने में माहिर बन जाऊंगा !!
या तो मंजिल मिल जाएगी,
या
अच्छा मुसाफ़िर बन जाऊंगा !!

51

हौसला देती रहीं… मुझको मेरी बैसाखियाँ,
सर उन्ही के दम पे सारी मंजिलें होती रहीं।

52

परिंदों को मंज़िल मिलेगी यक़ीनन,
ये फैले हुए उनके पंख बोलते हैं,
वो लोग रहते हैं खामोश अक्सर,
जमाने में ज़िनके हुनर बोलते हैं।

53

सफर में मुश्किलें आऐ,
तो हिम्मत और बढ़ती है… कोई अगर रास्ता रोके,
तो जुर्रत और बढ़ती है… अगर बिकने पे आ जाओ,
तो घट जाते है दाम अक्सर… ना बिकने का इरादा हो तो,
कीमत और बढ़ती है…

54

हौसले बुलंद कर रास्तों पे चल दे
तुझे तेरा मुकाम मिल जायेगा,
बढ़ कर अकेला तू पहल कर देखकर तुझको
काफिला खुद बन जायेगा

55

राह संघर्ष की जो चलता है,
वो ही संसार को बदलता हैं,
जिसने रातों से है जंग जीती.
सुबह सूर्य बनकर वही चमकता है।

56

थोड़ा धीरज रख,
थोड़ा और जोर लगाता रह !!
किस्मत के जंग लगे दरवाजे को,
खुलने में वक्त लगता है !!

57

तुम्हारे घर में दरवाजा है लेकिन
तुम्हे ख़तरे का अंदाजा नही है,
हमे ख़तरे का अंदाजा है लेकिन
हमारे घर में दरवाजा नही हैं।

58

छु ले आसमान जमीन की तलाश न कर,
जी ले जिंदगी खुशी की तलाश न कर,
तकदीर बदल जाएगी खुद ही मेरे दोस्त,
मुस्कुराना सीख ले वजह की तलाश न कर!

59

जिंदगी में छांव है तो कभी धूप है,
ऐ जिंदगी न जाने तेरे कितने रूप है,
जिंदगी में हालात जो भी हों,
लेकिन जिंदगी में मुस्कुराना नही भूला करते हैं।

60

सोच को अपनी ले जाओ उस शिखर पर,
ताकि उसके आगे सितारे भी झुक जाएं,
ना बनाओ अपने सफर को किसी किश्ती का मोहताज,
चलो इस शान से कि तूफान भी रुक जाय।
।। शुभ प्रभात मित्रों ।।

61

जो तूने कहा,
कर दिखायेगा रख यकीन !!
गरजे जब बादल,
तो बरसने में वक्त लगता है !!

62

उनके लिए सवेरे नहीं होते,
जो जिंदगी में कुछ भी पाने की
उम्मीद छोड़ चुके है…..
उजाला तो उनका होता है,
जो बार बार हारने के बाद कुछ
पाने की उम्मीद रखे है…..
जिसके पास धैर्य है वह जो
चाहे वो पा सकता है.

63

मंज़िल मिले न मिले
ये तो मुकद्दर की बात है,
हम कोशिश भी न करें
ये तो गलत बात है।

64

लक्ष्य भी है,
मंज़र भी है,
चुभता मुश्किलों का खंज़र भी है !!
प्यास भी है,
आस भी है,
ख्वाबो का उलझा एहसास भी है !!
रहता भी है,
सहता भी है,
बनकर दरिया सा बहता भी है!!
पाता भी है,
खोता भी है,
लिपट लिपट कर रोता भी है !!
थकता भी है,
चलता भी है,
कागज़ सा दुखो में गलत भी है !!
गिरता भी है,
संभलता भी है,
सपने फिर नए बुनता भी है !!

65

हुकूमत बाजुओं के ज़ोर पर तो कोई भी कर ले,
जो सबके दिल पे छा जाए उसे इंसान कहते हैं।

66

अगर पाना है मंजिल तो
अपना रहनुमा खुद बनो,
वो अक्सर भटक जाते हैं
जिन्हें सहारा मिल जाता है।

67

जंग में कागज़ी अफ़रात से क्या होता है,
हिम्मतें लड़ती हैं तादाद से क्या होता है।

68

मिटा दे अपनी हस्ती को अगर कुछ मर्तबा चाहे,
के दाना ख़ाक में मिलकर गुलो गुलज़ार बनता है।

69

Chu le aasman zameen ki talash na kar,
Jee le zindgi khusi ki taalash na kar,
Taqdeer badal jayegi khud hi mere dost,
Mushkurana seekh le wajah ki taalash na kar.

70

एक सूरज था के
तारो के घराने से उठा,
आँख हैरान है
क्या शख्स ज़माने से उठा।

71

निगाहों में मंजिल थी,
गिरे और गिरकर संभलते रहे,
हवाओं ने बहुत कोशिश की,
मगर चिराग आँधियों में जलते रहे।

72

कल यही ख्वाब हकीकत में बदल जायेंगे,
आज जो ख्वाब फकत ख्वाब नजर आते हैं।

73

उठो तो ऐसे उठो फक्र हो बुलंदी को,
झुको तो ऐसे झुको बंदगी भी नाज करे।

74

Zindagi Bahut Kuch Sikhati Hai,
Kabhi Hasati Hai Kabhi Rulati Hai,
Khud Se Bhi Jyada Kisi Par Vishwash Mat Karna,
Kyuki Andhere Mein To Parchai Bhi Saath Chod Jati Hai.

75

मुस्कुराते चेहरों के पीछे छुपे कितने गम भी हैं,
आपकी मुसकुराती आँखे कभी नम भी हैं,
ज़िन्दगी में हम बस यही दुआ करतें हैं,
आपकी हंसी कभी न रुके,
क्योंकि आपकी हँसी के दीवाने हम भी हैं।

76

बिना संघर्ष कोई महान नही होता,
बिना कुछ किये जय जय कार नही होता,
जब तक नहीं पड़ती हथोड़े की चोट,
तब तक कोई पत्थर भी लोगों के लिए भगवान नही होता।

77

जब टूटने लगे हौंसला तो बस ये याद रखना,
बिना मेहनत के हासिल तख़्त-ओ-ताज नहीं होते,
ढूढ़ लेना अंधेरे में ही मंजिल अपनी दोस्तों,
क्योंकि जुगनू कभी रोशनी के मोहताज़ नहीं होते।

78

शाम सूरज को ढ़लना सिखाती है,
शमा परवाने को जलना सिखाती है,
गिरने वाले को होती तो है तकलीफ,
पर ठोकर ही इंसान को चलना सिखाती है…

79

हर मील के पत्थर पे लिख दो ये इबारत,
मंज़िल नहीं मिलती नाकाम इरादों से।

80

हवाओं से कह दो कि अपनी औकात में रहे
हम पैरों से नहीं हौसलो से उड़ा करते है!!

81

बेहतर से बेहतर की तलाश करो,
मिल जाए नदी तो समंदर की तलाश करो,
टूट जाते हैं शीशे पत्थरों की चोट से,
तोड़ से पत्थर ऐसे शीशे की तलाश करो।

82

पानी को बर्फ में,
बदलने में वक्त लगता है !!
ढले हुए सूरज को,
निकलने में वक्त लगता है !!

83

खुद को यूँ खोकर ज़िन्दगी को मायूस न कर,
मंज़िले चारो तरफ हैं रास्तों की तलाश कर।

84

हजार बारक़ गिरे लाख आँधियाँ उठे,
वो फूल खिल के रहेंगे जो खिलने वाले हैं।

85

मंज़िलो से अपनी डर ना जाना,
रास्ते की परेशानियों से टूट ना जाना,
जब भी ज़रूरत हो ज़िंदगी मे किसी अपने की,
हम आपके अपने है ये भूल ना जाना!

86

रख हौसला वो मंजर भी आयेगा,
प्यासे के पास चल के समन्दर भी आयेगा,
थक कर न बैठ ऐ मंजिल के मुसाफिर,
मंजिल भी मिलेगी…
और मिलने का मज़ा भी आयेगा।

87

ए ज़िन्दगी तू मुझे उड़ना सिखा दे,
मुझे हालातों से लड़ना सिखा दे,
हर हाल में खुश रहना सिखा दे,
और हर हार से तू मुझे जीतना सिखा दे।

88

पानी मे तस्वीर कहाँ बनती है,
ख्वाबों से तकदीर कहाँ बनती है,
कोई भी रिश्ता हो ज़िन्दगी में सच्चे दिल से निभाओ,
क्योंकि ये ज़िन्दगी वापस किसे मिलती है।

89

वक़्त की गर्दिशों का ग़म न करो,
हौसले मुश्किलों में पलते हैं।

90

यदि अंधकार से लड़ने का संकल्प कोई कर लेता है,
तो एक अकेला जुगनू भी सब अन्धकार हर लेता है।

91

हम भी दरिया हैं,
हमें अपना हुनर मालूम है,
जिस तरफ़ भी चल पड़ेगे,
रास्ता हो जाएगा।

92

डर मुझे भी लगा फासला देख कर,
पर मैं बढ़ता गया रास्ता देख कर,
खुद ब खुद मेरे नज़दीक आती गई,
मेरी मंज़िल मेरा हौंसला देख कर।

93

अगर कोई चीज़ तक़दीर में नही भी लिखी है,
तो भी दुआ जरूर करनी चाहिए,
क्योंकि तक़दीर के सामने हम बेबस हैं,
लेकिन तक़दीर लिखने वाला नही!!

94

खोल दे पंख मेरे,
कहता है परिंदा,
अभी और उड़ान बाकी है,
जमीं नहीं है मंजिल मेरी,
अभी पूरा आसमान बाकी है,
लहरों की ख़ामोशी को समंदर
की बेबसी मत समझ ऐ नादाँ,
जितनी गहराई अन्दर है,
बाहर उतना तूफ़ान बाकी है…

95

वो लड़ेंगे क्या कि जो खुद पर फ़िदा हैं,
हम लड़ेंगे… हम ख़ुदाओं से लड़े हैं।

96

कहने को लफ्ज दो हैं उम्मीद और हरसत,
लेकिन निहां इसी में दुनिया की दास्तां है।

97

जो मजिंलो को पाने की चाहत रखते,
वो समंदरो पर भी पथरो के पुल बना देते है|

98

डर मुझे भी लगा फ़ासला देख कर,
पर मैं बढ़ता गया रास्ता देख कर,
खुद ब खुद मेरे नज़दीक आती गई,
मेरी मंज़िल मेरा हौंसला देखकर।

99

मंजिल यूँ ही नहीं मिलती राही को,
जुनून सा दिल में जगाना पड़ता है,
पूछा चिड़िया से कि घोसला कैसे बनता है,
वो बोली कि तिनका तिनका उठाना पड़ता है।

100

खुदा तौफ़ीक़ देता है उन्हें जो ये समझते हैं,
के खुद अपने ही हाथों से बना करती हैं तकदीर।

101

इन्हीं गम की घटाओं से खुशी का चांद निकलेगा,
अंधेरी रात के पर्दों में दिन की रौशनी भी है।

102

साथ नहीं रहने से रिश्ते नहीं टूटा करते,
वक्त की धुंध से लम्हे नहीं टूटा करते…
लोग कहते है मेरा सपना टूट गया,
टूटी नींद है सपने नहीं टुटा करते…!!

103

उठो तो ऐसे उठो कि फक्र हो बुलंदी को,
झुको तो ऐसे झुको बंदगी भी नाज़ करे।

104

खुदा तौफीक देता है उन्हें जो यह समझते हैं,
कि खुद अपने ही हाथों से बना करती हैं तकदीरें।

105

जब आप किसी काम की शुरुआत करें ,
तो असफलता से मत डरें और उस काम को ना छोड़ें.
जो लोग इमानदारी से काम करते हैं वो सबसे प्रसन्न होते हैं.

106

खुल कर तारीफ़ भी किया करो,
दिल खोल हँस भी दिया करो,
क्यूँ बाँध के ख़ुद को रखते हो,
पंछी की तरह भी जिया करो।

107

जिसमे उबाल हो ऐसा खून चाहिये,
जीत के खातिर ऐसा जुनून चाहिए,
ये आसमान भी आएगा ज़मीन पर,
बस इरादों में ऐसी गूंज होनी चाहिये।

108

“जिन्दगी की राहों में अंधेरा बहुत है,
ये कभी मत कहना।
राहों को रौशन करना है अगर,
तो दिल में सदा उम्मीद की लौ जलाये रखना।।”

109

पंखों को खोल अपने ज़माना सिर्फ उड़ान देखता है,
यूँ ज़मीन पर बैठकर आसमान क्या देखता है।

110

राह संघर्ष की जो चलता है,
वो ही संसार को बदलता है,
जिसने रातों से जंग जीती है,
सूर्य बन कर वो ही निकलता है।

111

उस काम का चयन कीजिये जिसे आप पसंद करते हों,
फिर आप पूरी ज़िन्दगी एक दिन भी काम नहीं करंगे.

112

परिंदे रुक मत तुझमे जान बाकी है,
मंजिल दूर है,
बहुत उड़ान बाकी है…..
आज या कल तेरी मुट्ठी में होगी दुनिया,
लक्ष्य पर अगर तेरा ध्यान बाकी है….
यूँ ही नहीं मिलती किसी को रब की मेहरबानी,
एक से बढ़कर एक इम्तेहान बाकी है,
जिंदगी की जंग में है ‘हौसला‘ जरुरी,
जीतने के लिए सारा जहान बाकी है।

113

कुछ देर रुकने के बाद,
फिर से चल पड़ना दोस्त !!
हर ठोकर के बाद,
संभलने में वक्त लगता है !!

114

मत सोच इतना… जिन्दगी के बारे में,
जिसने जिन्दगी दी है… उसने भी तो कुछ सोचा होगा!

115

हर ज़ुबा पे एक दिन तेरा ही नाम होगा,
हर कदम पे तेरे दुनिया का सलाम होगा,
हर मुसीबत का सामना करना तू डट कर,
तू देखना समय तेरा भी गुलाम होगा।

116

“ख्वाहिशों” से नही गिरते हैं,
“फूल” झोली में,
कर्म की साख़ को हिलाना होगा,
कुछ नही होगा कोसने से किस्मत को,
अपने हिस्से का दीया ख़ुद ही जलाना होगा।

117

नसीब जिनके ऊँचे और मस्त होते है,
इम्तिहान भी उनके जबरदस्त होते है।

118

जिन के होंटों पे हँसी पाँव में छाले होंगे,
वही लोग अपनी मंजिल को पाने वाले होंगे।

119

होके मायूस न यूं शाम से ढलते रहिये,
जिन्दगी भोर है सूरज सा निकलते रहिये।

120

रो कर मुस्कुराने का मजा ही कुछ और होता है,
जिंदगी में कुछ खो कर पाने का मजा ही कुछ और होता है,
ज़िन्दगी में हार और जीत तो लगी रहती है,
लेकिन हार के जीतने का मजा ही कुछ और होता है।

121

नजर को बदलो तो नजारे बदल जाते हैं,
सोच को बदलो तो सितारे बदल जाते हैं
कश्तियां बदलने की जरूरत नहीं,
दिशा को बदलो तो किनारे खुद-ब-खुद बदल जाते हैं।

122

मैं मौसम नही हूँ जो पल में बदल जाऊँ,
मैं इस जमीन से दूर कहीं और ही निकल जाऊँ,
मैं उस पुराने जमाने का सिक्का हूँ मुझे फेंक न देना,
हो सकता है बुरे दिनों में मैं ही चल जाऊँ।

123

तेरे गिरने में तेरी हार नहीं,
तू आदमी है अवतार नहीं,
गिर,उठ,चल,दौड,फिर भाग..
क्योंकि.. जीत संक्षिप्त है इसका कोई सार नहीं!

124

​​​नज़र-नज़र में उतरना कमाल होता है,
नफ़स-नफ़स में बिखरना कमाल होता है,
बुलंदियों पे पहुँचना कोई कमाल नहीं,
बुलंदियों पे ठहरना कमाल होता है।

125

हद ए शहर से निकली तो गाओं गाओं चली,
कुछ यादें मेरे संग पांव पांव चली,
सफ़र जो धूप का किया तो तजुर्बा हुआ,
वो ज़िन्दगी ही क्या जो छाओ छाओ चली।

126

मुक्कदर लिखने वाले मुझ पर एक एहसान कर दे,
मेरे दोस्त की ज़िंदगी में एक और मुस्कान लिख दे,
अब एक भी दर्द न उनकी ज़िंदगी मे लिखना,
चाहे तो उनके मुक्कदर में मेरी जान लिख दे।

127

जो अपनी जिंदगी में कुछ पाना चाहते हैं,
वो समंदर में भी पत्थरों के पुल बना लेते हैं।

128

Kehte Hain Har Baat Jubaan Se Hum Ishara Nahi Karte,
Aasman Par Chalne Wale Zamin Se Gujara Nahi Karte,
Har Halat Ko Badlne Ki Himmat Hai Hum Mein,
Waqt Ka Har Faisla Hum Ganwara Nahi Karte.

129

किसी ने आँखों में धूल क्या झोंकी,
पहले से बेहतर दिखने लगा।

130

ये कह के दिल ने मेरे हौसले बढ़ाए हैं,
ग़मों की धूप के आगे ख़ुशी के साए हैं।

131

मुश्किलें जरूर हैं मगर ठहरा नही हूँ मैं,
मंज़िल से जरा कह दो अभी पहुंचा नही हूँ मैं,
क़दमों को बाँध न पाएगी मुसीबत कि जंजीरे,
रास्तों से जरा कह दो अभी भटकता नहीं हूँ मैं।

132

आंधियों को जिद है जहां बिजलियां गिराने की,
मुझे भी जिद है,
वही आशियां बसाने की
हिम्मत और हौंसले बुलंद है,
खड़ा हूँ अभी गिरा नही हूँ,
अभी जंग बाकी है,
और मै हारा भी नही हूँ।

133

कदमो को बाँध न पाएगी मुसीबत की जंजीरें,
रास्तों से जरा कह दो अभी भटका नहीं हूँ मैं।

134

टूटने लगे हौसले तो ये याद रखना,
बिना मेहनत के तख्तो-ताज नहीं मिलते,
ढूंढ़ लेते हैं अंधेरों में मंजिल अपनी,
क्योंकि जुगनू कभी रौशनी के मोहताज़ नहीं होते…

135

अभी मुठ्ठी नहीं खोली है मैंने आसमां सुन ले,
तेरा बस वक़्त आया है मेरा तो दौर आएगा।

136

Bejhijhak muskuraye jo bhi gam hai,
Zindagi men tenashan kisako kam hai,
Achchha ya bura to keval bhram hai,
Zindagi ka nam hi kabhi khaushi kabhi gam hai!

137

रो कर मुस्कुराने का मजा ही कुछ और आता है,
जिंदगी में कुछ खो कर पाने का मजा ही कुछ और आता है,
ज़िन्दगी में हार और जीत तो लगी ही रहती है,
लेकिन हार के जीतने का मजा ही कुछ और आता है।

138

एक श्रेष्ठ व्यक्ति कथनी में कम ,
करनी में ज्यादा होता है.

139

पैसे को दिमाग मे नही जेब मे रखना चाहये,
रिश्तों को खुले में नही दिलों में रखना चाहिये।

140

क्यों घबराता है पगले दुःख होने से,
जीवन तो प्रारम्भ ही हुआ है रोने से।

141

जो मुस्कुरा रहा है उसे दर्द ने पाला होगा,
जो चल रहा है उसके पाँव में छाला होगा,
बिना संघर्ष के इन्सान चमक नही सकता,
जो जलेगा उसी दिये में तो उजाला होगा।

142

सामने हो मंजिल तो रास्ते न मोड़ना,
जो भी मन में हो वो सपना न तोडना
कदम कदम पे मिलेगी मुश्किल आपको,
बस सितारे चुनने के लिए कभी जमीन मत छोडना!!

143

काम करो ऐसा कि पहचान बन जाये,
हर कदम ऐसा चलो कि निशान बन जाये,
यहाँ ज़िन्दगी तो हर कोई काट लेता है,
ज़िन्दगी जियो इस कदर की मिसाल बन जाये।

144

न हमसफ़र न किसी हमनशीं से निकलेगा,
हमारे पाँव का काँटा हमीं से निकलेगा।

145

जिंदगी उसी को आजमाती है,
जो हर मोडपर चलना जानता है,
कुछ पा कर तो हर कोई मुस्कुराता है,
जिंदगी उसी की है..
जो सबकुछ खो कर भी मुस्कुराना जानता है।

146

ये ज़िन्दगी हसीं है इस से प्यार करो,
अभी है रात तो सुबह का इंतज़ार करो,
वो पल भी आएगा जिसकी ख्वाहिश है आपको,
रब पर रखो भरोसा वक़्त पर ऐतवार करो।

147

सफ़र की हद है वहां तक की कुछ निशान रहे,
चले चलो की जहाँ तक ये आसमान रहे,
ये क्या उठाये कदम और आ गयी मंजिल,
मज़ा तो तब है के पैरों में कुछ थकान रहे!

148

अगर आप चाहते हैं कि कोई चीज
अच्छे से हो तो उसे खुद कीजिये.

149

साथ नहीं रहने से रिश्ते नहीं टूटा करते,
वक्त की धुंध से लम्हे नहीं टूटा करते,
लोग कहते है मेरा सपना टूट गया,
टूटी नींद है सपने नहीं टुटा करते।

150

जिंदगी में जीत और हार है किसके लिए,
एक दूसरे में इतनी तकरार है किसके लिए,
जो आया है इस दुनिया मे एक दिन वो जाएगा,
ए इंसा तो तुझे इतना गुमान है किसके लिए।

151

जिस-जिस पर ये जग हँसा है,
उसी ने इतिहास रचा है।

152

जो इस वक्त मुस्कुरा रहा है,
कभी उसे दर्द ने पाला होगा।
और जो इस वक्त चल रहा,
उसके पैर में ज़रूर छाला होगा।
बिना मेहनत के कोई भी चमक नही सकता,
जो दिया जल रहा है उसी से ही तो उजाला होगा।

153

Zindagi Hasin Hai Zindagi Se Pyaar Karo,
Hai Rat To Subah Ka Intzar Karo,
Wo Pal Bhi Ayega Jiska Intzaar Hai Aap Ko,
Rab Pr Bhrosa Aur Waqt Pe Aitbar Rakho.

154

सीढियाँ उन्हें मुबारक हों,
जिन्हे सिर्फ छत तक जाना है,
मेरी मंज़िल तो आसमान है,
रास्ता मुझे खुद बनाना है।

155

जीत निश्चित हो तो कायर भी लड़ सकते हैं,
बहादुर वे कहलाते हैं,
जो हार निश्चित हो,
फिर भी मैदान नहीं छोड़ते…

156

खुदी को कर बुलन्द इतना कि तकदीर से पहले
खुदा बंदे से खुद पूछे बता तेरी रजा क्या है।

157

हर एक चीज में खूबसूरती होती है,
लेकिन हर कोई उसे नहीं देख पाता.

158

सफर में मुश्किलें आऐ,
तो हिम्मत और बढ़ती है।
कोई अगर रास्ता रोके,
तो जुर्रत और बढ़ती है।
अगर बिकने पे आ जाओ,
तो घट जाते हैं दाम अक्सर।
ना बिकने का इरादा हो तो,
कीमत और बढ़ती है।

159

वक्त की एक आदत बहुत अच्छी है,
जैसा भी हो गुजर जाता है,
और जीवन मे कितने भी कड़े इम्तेहान हो,
वो यादे बनके सीने में उतर जाता है।

160

इंसान ने वक्त से पूछा…..
मैं हार क्यूं जाता हूँ ?
वक्त ने कहा…
धूप हो या छाव हो,
काली रात हो या बरसात हो,
मैं हर वक्त चलता रहता हूँ,
इसलिए मैं जीत जाता हूँ,
तू भी मेरे साथ चल,
कभी नहीं हारेगा……

161

बढ़ के तूफ़ान को आग़ोश में ले ले अपनी,
डूबने वाले तेरे हाथ से साहिल तो गया।

162

संघर्ष में आदमी अकेला होता है,
सफलता में दुनियां उसके साथ होती है,
जब जब जग किसी पर हँसा है,
तब तब उसी ने इतिहास रचा है।

163

कर्म करो तो फल मिलता है,
आज नहीं तो कल मिलता है।
जितना गहरा अधिक हो कुआँ,
उतना मीठा जल मिलता है।
जीवन के हर कठिन प्रश्न का,
जीवन से ही हल मिलता है।

164

ज़िन्दगी बहुत हसीन है,
कभी हंसाती है,
तो कभी रुलाती है,
लेकिन जो ज़िन्दगी की भीड़ में खुश रहता है,
ज़िन्दगी उसी के आगे सिर झुकाती है।

Motivational Shayari in English

165

Kisi ne ke khub likha hai:
Kal na hum honge na koi gila hoga,
Sirf simti hui yaadon ka silsila hoga,
Jo lamhe hai chalo haskar bita le,
Jaane kal zindagi ka kya faisla hoga.

166

बिखरेगी फिर वही चमक,
तेरे वजूद से तू महसूस करना !!
टूटे हुए मन को,
संवरने में थोड़ा वक्त लगता है !!

167

मंजिल उन्ही को मिलती है,
जिनके सपनो में जान होती है!!
पंख से कुछ नहीं होता,
हौसलों से उड़ान होती है!!

168

पहले वो आप पर ध्यान नहीं देंगे,
फिर वो आप पर हँसेंगे,
फिर वो आप से लड़ेंगे,
और तब आप जीत जायेंगे.

169

मुश्किलों से भाग जाना आसान होता है
हर पहलू जिन्दगी का इम्तिहान होता है
डरने वाले को मिलता नहीं
कुछ जिंदगी में लड़ने वालो के
कदमों में जहान होता है!!

170

जो हो गया उसे सोचा नहीं करते
जो मिल गया उसे खोया नहीं करते
हासिल उन्हे होती है सफलता….
जो वक्त और हालात पर रोया नहीं करते!!

171

छू ले आसमान ज़मीं की तलाश न कर,
जी ले जिंदगी ख़ुशी की तलाश न कर,
तकदीर बदल जाएगी खुद ही मेरे दोस्त,
मुस्कुराना सीख ले वजह की तलाश न कर।

172

बुझी शमा भी जल सकती है,
तूफानों से कश्ती भी निकल सकती है,
हो के मायूस यूँ ना अपने इरादे बदल,
तेरी किस्मत कभी भी बदल सकती है।

173

खुदा गवाह है दोनों हैं दुश्मन-परवाज,
गेम-कफ़स हो या रहत हो आशियाने की।

174

चलो चाँद का किरदार अपना लें हम दोस्तों,
दाग अपने पास रखें और रोशनी बाँट दे।

175

तूफानों से डरा नहीं करते।
तूफानों से जो डरे,
मंजिल कभी पाया नहीं करते।।”

176

अगर आपकी किस्मत लिख सकते हम,
तो हर खुशी आपके हिस्से में लिख देते हम,
जो मोड़ आपको आपकी मन्ज़िल दिलाये,
उस रुख को आपकी तरफ मोड़ देते हम।

177

जल को बर्फ़ में बदलने में वक्त लगता है,
सूरज को निकलने में वक्त लगता है,
किस्मत को तो हम बदल नही सकते,
लेकिन अपने हौसलो से किस्मत
बदलने में वक्त लगता है।

178

जो मुस्कुरा रहा है उसे दर्द ने पाला होगा,
जो चल रहा है उसके पाँव में छाला होगा,
बिना संघर्ष के इन्सान चमक नही सकता,
जो जलेगा उसी दिये में तो उजाला होगा।

179

फिक्र मत कर बन्दे कलम कुदरत के हाथ है,
लिखने वाले ने लिख दिया तकदीर तेरे साथ है,
फ़िक्र करता है क्यों फिक्र से होता है क्या,
रख खुदा पे भरोसा देख फिर होता है क्या।

180

मुस्कराते रहोगे तो दुनिया
आपके कदमों में होगी,
वर्ना आँसुओं को तो
आँखें भी पन्नाः नहीं देती।

181

अगर पानी है मंजिल तो अपना रहनुमा खुद बनो,
वो अक्सर भटक जाते हैं जिन्हें सहारा मिल जाता है।

182

संघर्ष के मार्ग पर जो वीर चलता हैं,
वो ही इस संसार को बदलता हैं,
जिसने अन्धकार,
मुसीबत और ख़ुद से जंग जीती,
सूर्य बनकर वही निकलता हैं।

183

होके मायूस न यूं शाम से ढलते रहिये
जिन्दगी भोर है सूरज सा निकलते रहिये
एक ही पाये पे ठहरोगे तो थक जाओगे
धीरे-धीरे ही सही राह पे चलते रहिये!

184

सुन ऐ ज़िंदगी मुश्किलों के सदा हल दे,
थक न सके हम फुर्सत के कुछ पल दे,
दुआ है दिल से सबको सुखद आज,
और एक बेहतर कल दे..
सुप्रभात

185

सफर में मुश्किलें आये
तो जुर्रत और बढ़ती है,
कोई जब रास्ता रोके
तो हिम्मत और बढ़ती है।

186

Chamak Suraj Ki Nahi Mere Kirdaar Ki Hai,
Khabar Ye Aasmaan Ke Akhbaar Ki Hai,
Main Chaloon To Mere Sang Kaarwan Chale,
Baat Guroor Ki Nahi Aitbaar Ki Hai.

187

मैं सुनता हूँ और भूल जाता हूँ ,
मैं देखता हूँ और याद रखता हूँ,
मैं करता हूँ और समझ जाता हूँ.

188

जरा दरिया की तह तक तू पहुँचने की हिम्मत कर,
तोह फिर ऐ डूबने वाले किनारा ही किनारा है।

We hope you enjoyed our collection of Motivational Shayari. Share these Motivational Shayari on social media and your website. In case we have missed out any Motivational Shayari, feel free to drop us a comment and we will include that Motivational Shayari to this list.

Also, make sure to bookmark this Motivational Shayari article so that you can, later on, pick out more Shayari to share on Facebook and Whatsapp.