300+ Bewafa Shayari for Love and Sad Mood With Images

Looking for best bewafa shayari? Look no further!

We have compiled a huge list of bewafa shayari which you can share online on Facebook and Whatsapp.

You can also browse through our love shayari, sad shayari, dosti shayari, and attitude shayari.

List of best bewafa shayari online

Bewafa Shayari images

Feel free to share these bewafa shayari images on social media.

1

bewafa 1

Parda Jho Darmiyan Tha Hatana Pada Mujhe,

Rusvayion Ke Khauf Se Mahafil Main Aaj,

Fir Iss Bewafa Se Haath Milana Pada Mujhe.

2

shayari bewafa 2

सुनो एक बार और मोहब्बत करनी है

तुमसे लेकिन इस बार बेवफाई हम करेंगे.

3

bewafa shayari 3

तेरी बेवफाई का सौ बार शुक्रिया,

मेरी जान छूटी…इश्क़-ऐ-बवाल से.

4

bewafa shayari 4

हसीनो ने हसीन बनकर गुनाह किया,

औरों को तो ठीक पर हम को भी तबाह किया,

अर्ज़ किया जब ग़ज़लों मे उनकी बेवफ़ाई को तो,

औरों ने तो ठीक उन्होने भी वा वा किया

5

bewafa shayari 5

किसी को इतना भी न चाहो कि भुला न सको क्योंकि !

‪ज़िंदगी इन्सान और मोहब्बत तीनों बेवफा‬ हैं !!

6

मेरे दिल की दुनिया पे तेरा ही राज था।

कभी तेरे सीर पर भी वफाओ का ताज था।

तूने मेरा दिल तोडा पर पता न चला तुझको।

क्योंकि टुटा दिल दीवाने का बे आवाज था।

7

Vho Tho Apne Dard Ro-Ro Ke Sunthe Rahe,

Humari Thanhayion Se Aankh Churathe Rahe,

Aur Hume Bewafa Ka Naam Mila

Kyonki Hum Hur Dard Muskura Kar Chupathe Rahe!

8

Wo Bewafa Humra Imtehaan Kya Legi

Milegi Nazron Se Nazrein To Apni Nazrein Jhuka Legi

Use Meri Kabra Par Diya Mat Jalane…

9

Jab Tak Na Lage Bewafai Ki Thhokar Dost,

Har Kisi Ko Apni Pasand Par Naaz Hota Hai.

10

Khushi Ki Raah Me Gam Mile Tho Kya Kare,

Wafa Ki Raah Me Bewafa Mile Tho Kya Kare,

Kaisai Bachaaye Zindagi Ko Dagawajo Se,

Koi Dil Laga Ke De Jaaye Dhoka Tho Kya Kare.

11

Kisi Bewfa Ke Khatir Ye Zoonoon Kab Tak

Jo Tumhe Bhula Chuka Hai Use To Bhi Bhool Ja

12

तू भी बेवफा निकला औरों की तरह,

सोचा था !

की हम तुझसे ज़माने की बेवफाई का गिला करेंगे!

13

आंखों के हर कतरे का बोझ उठाता था,

उठाता हूँ और उठाता रहूँगा ।

मगर आंसुओं को ना कभी बेवफा कहूँगा ।

इस जन्म का जो कर्ज है

अगले जन्म में जरूर बगैर कर्ज मुस्कराउंगा ।

14

Hum Tho Tera Dil Ki Mehafil Sajane Aaye The,

Teri Kasam Thujhe Apna Banana Aaye The,

Kis Baath Ki Sajaa Dhi Thumne Humko

Bewafa Hum Tho Tere Dard Ko Apnaaye Aaye The.

15

वफ़ा निभा के वो हमे कुछ दे ना सके

पर बहुत कुछ दे गये जब वो बेवफा हुए

16

बेवफाओं की दुनिया से लफ्जों को आज भी शिकायत है.

जान बूझ कर इस्तेमाल नहीं करते,

फिर लगाते तोहमत है!

17

Tute Huye Pyale Main Jaam Nahi Aata

Ishq Main Mariz Ko Aram Nahi Aata

Ye Bewafa Dil Todne Se Pahele…. Ye…

18

तलाश मेरी थी और भटक रहा था वो,

दिल मेरा था और धड़क रहा था वो,

प्यार का तालुक भी अजीब होता है,

आंसू मेरे थे सिसक रहा था वो..

19

काश उन्हें चाहने का अरमान नही होता,

में होश में होकर भी अंजान नही होता,

ये प्यार ना होता,

किसी पत्थर दिल से,

या फिर कोई पत्थर दिल इंसान ना होता!

20

मैंने प्यार किया बड़े होश के साथ!

मैंने प्यार किया बड़े जोश के साथ!

पर हम अब प्यार करेंगे बड़ी सोच के साथ!

क्योंकि कल उसे देखा मैंने किसी और के साथ!

21

उसने महबूब ही तो बदला है फिर ताज्जुब कैसा?

दुआ कबूल ना हो तो लोग खुदा तक बदल लेते है!!

22

“ना वो आ सके ना हम कभी जा सके,

ना दर्द दिल का किसी को सुना सके.

बस बैठे है यादों में उनकी,

ना उन्होंने याद किया और ना हम उनको भुला सके.”

23

Kaise Yakeen Kare Hum Teri Mohabbat Ka,

Jab Bikti Hai Bewafai Tere Hi Naam Se.

24

Unki Yaadon Ko Apne Saath Lekar

Ghar Se Hum Hijr Ke Maare Nikale

Mohabbath Tho Tumne Bhi Ki Thi

Magar Ishq Me Saare Jurm Humaare Nikle

25

फेर लेते हैं नज़र,

दिल से भुला देते हैं,

क्या यूँ ही लोग वाफ़ाओं का सिला देते हैं,

वादा किया था फिर भी ना आए मज़ार पर,

हमने तो जान दी थी इसी ऐतबार पर!!

26

Meri Chahath Ka Andaaza Na Laga Paaoge

Khud Ko Bhool Jaaoge Magar Humko Bhool Na Paaoge,

Ek Baar Humse Juda Hoke To Dekho,

Kasam Thumhari Humare Bagair Jeena Bhool Jaaoge….

27

मेरी कोशिश हमेशा ही

नाकाम रही..

पहले तुझे पाने की अब

तुझे भुलाने की…

28

मोहब्बत का नतीजा दुनिया में हमने बुरा देखा

जिन्हे दावा था वफा का उन्हें भी हमने बेवफा देखा

29

Agar Etni He Nafrat Hai Humse To,

Dil Se Aisi Dua Karo,

Ki Aaj He Tumhari Dua Bhi Puri Ho Jaye

Aur Hamari Zindagi Bhi

30

तोड़ा कुछ इस अदा से तालुक़ उस ने ग़ालिब,

कि सारी उम्र हम अपना क़सूर ढूँढ़ते रहे।

31

आओ फिर से दोहराए अपनी कहानी,

मैं तुम्हें बेपनाह चाहूँगा

और तुम मुझे बेवजह छोड़ जाना.

32

ए दिल ,

चल एक सौदा करते हैं ,

मैं उसके लिए तड़पना छोड़ देता हूँ ,

तू मेरे लिए धड़कना छोड़ दे …

33

मिलने का वादा कर गयी थी,

वापस लौट आउंगी ये कहकर गयी थी,

आई है अब वो जनाज़े पे मेरे,

वादा वो अपना निभाने चली थी!!

34

Ekka Chahe Kitna Bhi Bda Ho

Magar

Rani Sirf Badsah Ki Hi Hoti Haii..

35

Meri Mohabbat Sachchi Hai

Isliye Teri Yaad Aati Hai,

Agar Teri Bewafai Sachchi Hai

To Ab Yaad Mat Aana.

36

Jis Ke Naseeb Mein Hon Zamaney Ki Thokarein

Us Bad-Naseeb Sey Na Sahar’On Ki Baat Ker

37

Fir Se Niklenge Talash-E-Zindagi Me,

Dua Karna Iss Baar Koi Bewafa Na Mile.

38

Yaad Rahega Ye Dour- E Hayaat Humko

Ki Tarse The Zindgi Me Zindgi Ke Liye

39

जो कहते थे हमसे हैं तेरे सनम,

वो दगा दे गए देखते देखते।

देते मोहब्बत का इनाम क्या,

वो सजा दे गए देखते देखते।

सोचता हूँ कि वो कितने मासूम थे ,

जो बेवफा हो गए देखते देखते।

40

Dil Ki Dahleez Par Rakh Kar Teri Yaadon Ke Chiraag

Humne Duniyan Ko Mohabbat Ke Ujaale Bakhshey

41

Hasai To Hasi Lav,

Radai To Radi Lav,

Sangraam Chhe Jindagi,

Ladai To Ladi Lav.

42

Labo Se Tut Gaye Guftagu Ke Sab Rishte

Wo Dekhta Hei To Bas Dekhta Hi Rahta Hei..

43

Pahile Zindagi Cheen Li Mujhse

Ab Meri Maut Ka Bhiwo Fayda Uthati Hai

Meri Kabra Pe Fool Chadhane Ke Bahane

Wo Kisi Aur Se Milne Aati…

44

Kitna Pyar Karte Hai Hum Unse,

Kaash Unko Bhi Yeh Ehsaas Ho Jaye,

Magar Aisa Na Ho Ke Woh Hosh Mein Tab Aaye,

Jab Hum Gehri Neend Mein So Jaye…

45

Ek Rishta Jo Muh Bola Tha

Uska Bhee Tumne Tiraskaar Kiya

Chhod Kar Dur Chale Gaye……

Ye Kaisa Tumhaara Pyaar Hua…..

46

मेरे दोस्तों ने इकट्ठा किया मेरे ही कत्ल का सामान,

मैंने उनसे कहा,

यारो तुम्हारी नफरत ही काफी थी मुझे मारने के लिए…

47

चर्चा हो रही थी मोहब्बत लिखने वालो की,

स्याही भटक गई तेरा नाम लिखते लिखते..

48

मुझसे वादा करो मुझे रुलाओगे नहीँ

हालात जो भी हो मुझे भुलाओगे नहीं

49

तरस जाओगे हमारे मुँह से सुनने को एक लव्ज़

प्यार की बात क्या,

हम शिकायत भी ना करेंगे…

Bewafa Shayari in love

50

बहुत मासूम होते है

ये आँसू भी

ये गिरते उनके लिए है

जिन्हे परवाह नहीं होती..

51

कल रात मैंने अपने सारे ग़म,

कमरे की दीवार पर लिख डाले,

बस फिर हम सोते रहे और दीवारे रोती रही

52

Logon Ne Roj Hi Naya Kuchh

Manga Hai Khuda Se,

Ek Hum Hi Hain Jo Tere Khayal

Se Aage Na Gaye…

53

Itna Toota Hoon Ki

Chhoone Se Bikhar Jaooanga

Ab Agar Aur Dua

Dogi To Mar Jauanga..

54

आज हम उनको बेवफा बताकर आए है,

उनके खतो को पानी में बहाकर आए है,

कोई निकाल न ले उन्हें पानी से..

इस लिए पानी में भी आग लगा कर आए है।

55

Dosti Se Aaj Pyar Sharmaya Hai

Teri Dosti Ne Hume Jeena Sikhaya Hai,

Kya Maange Khuda Se Hum

Who Tho Kudh Aaj Mere Dar Par

Teri Dosti Mangne Aaya Hai.

56

ऐ बेदर्द… सब आ जातें हैं यूँ ही मेरी ‘ख़ैरियत’ पूछने…

अगर तुम भी पूछ लो तो यह ‘नौबत’ ही न आए.

57

सोचा था तुझपे प्यार लुटाकर तेरे दिल में घर बनायेंगे…..

हमे क्या पता था दिल देकर भी हम बेघर रह जाएँगे.…..

58

कभी ग़म तो कभी तन्हाई मार गयी,

कभी याद आ कर उनकी जुदाई मार गयी,

बहुत टूट कर चाहा जिसको हमने,

आखिर में उनकी ही बेवफाई मार गयी

59

बड़ी गरज से चाहा है तुझे

बड़ी दुआओं से पाया है तुझे

तुझे भूलने की सोचूं भी तो कैसे

किस्मत की लकीरों से चुराया तुझे

60

मुझे सिर्फ इतना बता दो इंतज़ार करू

तुम्हारा या बदल जाऊ तुम्हारी तरह.

61

Yaado K Jungle Me Tab Tak Firta Hu

Jab Tak Pair Lahu Luhan Nahi Ho Jate..

62

चेहरों के लिए आईने कुर्बान किये है;

इस शौक में अपने बड़े नुकसान किये है;

महफ़िल में मुझे गालियाँ देकर है बहुत खुश;

जिस शख्स पर मैंने बड़े एहसान किये है।

अधिक जानकारियों के लिए बने रहिये पंजाब केसरी के साथ

63

Tu Hasi Chand Kisi Aur Ka Sahi

Par Tu Mere Andhere Ki Roshni He…

64

आज किसी की दुआ की कमी है,

तभी तो हमारी आँखों में नमी है,

कोई तो है जो भूल गया हमें,

पर हमारे दिल में उसकी जगह वही है..

65

आपकी यादें भी हैं

मेरे बचपन के खिलौनो जैसी

तन्हा होते हैं तो इन्हें ले कर बैठ जाते हैं

66

Na Waqif The Hum Chahat K Asulon Se,

Is Liye Barbaad Huye

Na Usne Apna Banaya Na Kisi Aur K Qabil Chodha

67

लोगों ने पूछा कि कौन है वोह

जो तेरी ये उदास हालत कर गया ??

मैंने मुस्कुरा के कहा उसका नाम

हर किसी के लबों पर अच्छा नहीं लगता!

68

सिखा मुझसे ही मेरी मोहब्बत ने मोहब्बत करने का हुन्नर!

आज मेरी मोहब्बत गैरों से मोहब्बत रचा बैठी!

69

Palkon Ki Hadd Ko Tod Kar Daaman Pe Aa Giraa,

Ek Ashq Mere Sabar Ki Toheen Kar Gayaa

70

उनके लिए जब हमने भटकना छोड़ दिया,

याद में उनकी जब तड़पना छोड़ दिया,

वो रोये बहुत आकर तब हमारे पास,

जब हमारे दिल ने धडकना छोड़ दिया

71

दिल के पहलू में

एक दर्द सा पाने लगे,

जब अपने ही

बेगाने से नजर आने लगे।

72

Ye Mout Bi Badi Ajeeb Chiz Hei Yaro…

Sala Ek Din Marne Ke Liye

Puri Zindgi Jini Padti Hey…

73

Mujhe Malum Hai Hum Unke Bina Jee Nahi Sakte,

Unka Bhi Yahi Haal Hai Magar Kisi Aur Ke Liye.

74

ये उनकी मोहब्बत का नया दौर है,

जहाँ कल मैं था आज कोई और है।

75

Sadiya Guzar Gayi Kisi Ko Apna Bnane Me…

Magar Pal Bhi Na Laga Unhe Hamse Door Jane Me…

76

जिस्म से होने वाली मोहब्बत का इज़हार आसान होता है

रूह से हुई मोहब्बत समझने में ज़िन्दगी गुजर जाती है

77

तुमने समझा ही नहीं और ना समझना चाहा,

हम चाहते ही क्या थे तुमसे “तुम्हारे सिवा”

78

Naseeb Ban Kar Koyi Zindagi Me Aata Hai,

Phir Khawab Ban Kar Aankhon Me Sama Jata Hai,

Yakeen Dilata Hai Ki Wo Hamara Hi Hai,

Phir Na Jane Kyun Waqt Ke Sath Badal Jata Hai.

79

रोज़ ढलता हुआ सूरज ये कहता है

मुझसे आज उसे बेवफा हुए एक दिन और हुआ Ii

80

Socha Na Tha Vo Shakhs Bhi Itana Jaldi Saath Chhod Jayega,

Jo Mujhe Udas Dekhakar Kehta Tha “Main Hu Na”.

81

छोटी सी है है ज़िन्दगी तो तकरार किस लिये,

रहते हो दिल में तो फिर दिवार किस लिए.

82

किसी को न पाने से जिंदगी खत्म नहीं होती

लेकिन किसी को पाकर खो देने से कुछ बाकी भी नहीं रहता|

83

तुझे याद कर लूं तो मिल जाता है

सुकून दिल को.

मेरे गमों का इलाज

भी कितना सस्ता है..

84

Dard Hai Dil Me Par Iska Ehasaas Nahi Hota;

Rota Hai Dil Jab Vho Paas Nahi Hota;

Barbaad Ho Gaye Hum Uske Pyaar Me

Aur Vho Kehthe Hai Iss Tarah Pyar Nahi Hota.

85

Hamen Taameer Ke Dhokhe Mein Rakhakar

Hamaare Khvaab Chunavaaye Gae Hain

86

Meri Mohabbat Bezubaam Hoti Rahi

Dil Ki Dhadkanem Apna Vajud Hoti Rahi

Koi Nahi Aaya Mere Dukh Main Kareeb,

Ek Baarish Thi Jho Mere Saath Roti Hai.

87

Itni Mushkil Bhi Na Thi Raah Meri Mohabbat Ki,

Kuchh Zamana Khilaaf Hua Kuchh Woh Bewafa Huye.

88

जिस्म से होने वाली मोहब्बत का इज़हार आसान होता है

रूह से हुई मोहब्बत समझने में ज़िन्दगी गुजर जाती है

89

Nikle Hum Duniya Ki Bhid Mein

To Pata Chala,

Har Wo Shakhs Tanha Hai

Jisne Pyar Kiya.

90

एहसान करो तो दुआओ में मेरी मौत मांगना

अब जी भर गया है जिंदगी से !

एक छोटे से सवाल पर

इतनी ख़ामोशी क्यों ?

बस इतना ही तो पूछा था-

“कभी वफ़ा की किसी से…

91

Aa Bichadne Ka Koi Aur Tareeqa Dhoodhen

Pyyar Badhta Hai Meri Jaaan Khafa Rahne Se

92

Meri Yadon Se Agar Bach Niklo To Waada Mera Hai Tumse,

Main Khud Duniyaa Se Keh Doon Ga Ke Kammi Meri Wafaa Mein Thi!

93

Kaise Ek Laphz Mein Bayaan Kar Doon

Dil Ko Kis Baat Ne Udaas Kiya

94

Dil Ke Chhalon Ko Koi Shayari Kahe,

To Dard Nahi Hota.

Takleef To Tab Hoti Hai,

Jab Log Wah-Wah Karte Hain

95

Hanste Hain Yun Hans Kar Rula Jate Hein Log,

Milte Hain Yunhi Mil Kar Juda Ho Jate Hein Log,

Pal Do Pal Ki Mohabbat Ko Umar Ka Saath Samjhna,

Mohabbat Bi Karte Hain Or Khafa Bhi Ho Jate Hain Log,

Naseeb Mein Pyar Na Tha Jo Mujhe Mila Hi Nahi,

Kar Ke Izhaar-E-Mohabbat Bhi Beparwaah Ho Jate Hain Log,

Ab Kisse Shikwa Karen Apni Mohabbat Ka,

Karke Wafa Ka Vaada Bewafa Ho Jate Hain Log.

96

Haqikat Jaan Lo Juda Hone Se Pehale,

Meri Sun Lo Apni Sunane Se Pehale,

Ye Sochh Lena Bhulane Se Pehale,

Bahut Royi Hain Yeh Aankhen Muskuraane Se Pehale.

97

हमारे हर सवाल का सिर्फ एक ही जवाब आया,

पैगाम जो पहूँचा हम तक बेवफा इल्जाम आया।

98

Mohabbat Se Bhari Koyi Ghazal Use Pasand Nahi,

Bewafai Ke Har Sher Pe Wo Daad Diya Karte Hain.

99

बड़े सुकून से रहते है अब वो मेरे बिना.

जैसे किसी उलझन से छुटकारा मिल गया हो.

100

Aankhe Dil Ka Har Raaz

Bayan Karti Hai

Bas Unko Padhne Wala

Dil Koi Chahiye.

Bewafa Shayari sad

101

वो मुस्कुरा के मुकरने

की अदा जानता है

मैं भी आदत बदल

लेता तो सुकून में होता

102

Jaane Meri Aankhon Se Kitne Aansu Bah Gaye,

Insano Ki Is Bheed Me De Kho Hum Tanha Ho Gaye,

Karte The Jo Kabhi Apni Wafa Ki Baaten,

Aaj Bahi Sanam Hume Bewafa Kah Gaye.

103

हमारी तड़प तो कुछ

भी नही है हुजुर

सुना है कि उसके दिदार के

लिए तो आईना भी तरसता है

104

मेरी बर्बादी पर तू कोई मलाल ना करना,

भूल जाना मेरा ख्याल ना करना,

हम तेरी ख़ुशी के लिए कफ़न ओढ़ लेंगे,

पर तुम मेरी लाश ले कोई सवाल मत करना!

105

वही शख्स आकेला छोड गया मुझे इस दुनिया कि भीड मे

जिसने दुनिया की भीड़ से चुन के मुझे अपना बनाया था

106

Kitna Pyar Karte Hai Hum Unse,

Kaash Unko Bhi Yeh Ehsaas Ho Jaye,

Magar Aisa Na Ho Ke Woh Hosh Mein Tab Aaye,

Jab Hum Gehri Neend Mein So Jaye…

107

Mere Dil Ko Ab Kisi Se Gila Nahi

Man Se Jisko Chaha Vho Mujhe Mila Nahi

Badanseebi Kahun Ya Vakth Ki Bewafayi

Andhere Main Dipak Mila Par Vho Bhi Jala Nahi.

108

अरे बेपनाह मोहब्बत की थी हमने तुझसे ओ बेवफा !

तुझे दुःख दूं ये न होगा कभी खुद मर जाऊं यहीं ठीक है !!

109

Teri Dosthi Ne Bohat Kuch Sikla Diya

Meri Khamosh Duniya Ko Jaisai Hasa Diya

Karzdaar Hum Main Khuda Ka,

Jisne Mujhe Aap Jaisai Dosth Se Mila Diya

110

बस इतना बता दो ,

इंतज़ार करू या बदल जाऊ ?

111

Ab Dekhiye To Kis Ki Jaan Jaati Hai,

Maine Uski Aur Usne Meri Qasam Khayi Hai.

112

आदतन तुम ने कर दिए वादे

आदतन हम ने ऐतबार किया

तेरी राहो में बारहा रुक कर

हम ने अपना ही इंतज़ार किया

अब ना मांगेंगे जिंदगी या रब

ये गुनाह हम ने एक बार किया

113

Kaam Aa Saki Na Apni Wafayein To Kya Karein,

Uss Bewafa Ko Bhool Na Jayein To Kya Karein.

114

Meri Hasi Mein Bhi Kai Gum Chipe Hai

Darta Hun Batane Se

Kahi Sabka Pyar Se Bharosha Na Uth Jaye!

115

प्यार में बेवाफाई मिले तो गम न करना;

अपनी आँखे किसी के लिए नम न करना;

वो चाहे लाख नफरते करें तुमसे;

पर तुम अपना प्यार कभी उसके लिए कम न करना।

116

मैंने भी किसी से प्यार किया था

उनकी रहो में इंतजार किया था

हमें क्या पता वो भूल ज्यांगे हमें

कसूर उनका नहीं मेरा ही था

जो एक बेवफा से प्यार किया था!

117

आदत है या तलब

इश्क है या चाहत

तू दिल मे है या साँसों मे

तू दीवानगी है या मेरी आशिकी

तू ज़िन्दगी है या फिर एक किस्सा

पर जो भी है सिर्फ तू है

118

ना पूछ मेरे सब्र की इंतहा कहाँ तक है

तू सितम कर ले तेरी हसरत जहां तक है,

वफ़ा की उम्मीद जिन्हें होगी उन्हें होगी,

हमे तो देखना है तू बेवफा कहा तक है.

119

Ajab Muqaam Pe Thehra Huwa Hai Kafila Dil Ka

Sukoon Dhundne Nikle The,

Neende Bhi Gawa Bethe…

120

मिलने का वादा कर गयी थी,

वापस लौट आउंगी ये कहकर गयी थी,

आई है अब वो जनाज़े पे मेरे,

वादा वो अपना निभाने चली थी!!

121

इंतज़ार की आरज़ू अब खो गयी है !

खामोशियो की आदत हो गयी है !

न सीकवा रहा न शिकायत किसी से अगर है तो !

एक मोहब्बत जो इन तन्हाइयों से हो गई है !!

122

Chahath Par Ab Eithbaar Naa Raha,

Khushi Kya Hai Yah Ehasas Naa Raha,

Dekha Hai Inn Ankhon Ne Toota Sapano Ko,

Isliye Ab Kisi Ka Intezar Na Raha.

123

मैंने प्यार किया बड़े होश के साथ!

मैंने प्यार किया बड़े जोश के साथ!

पर हम अब प्यार करेंगे बड़ी सोच के साथ!

क्योंकि कल उसे देखा मैंने किसी और के साथ!

124

कसूर उनका नहीं हमारा

ही था.

हमारी चाहत ही इतनी थी

कि उनको गुरुर आ गया.

125

मेरी रूह में न समाती तो भूल जाता तुम्हे,

तुम इतना पास न आती तो भूल जाता तुम्हे,

यह कहते हुए मेरा ताल्लुक नहीं तुमसे कोई,

आँखों में आंसू न आते तो भूल जाता तुम्हे|

126

Jisko Rishta Nibhana Hota Hai Naa,

Vho Aapki Hazaar Galathiyam Bhi Maaf Kar Deta Hai,

Aur Jisko Nahi Nibhana Hota Vho Aapki

Ek Choti Si Galathi Par Chod Deta Hai.

127

रस्मे उल्फत को निभाए तो निभाए कैसे,

हरतरफ आग है ,

दामन को बचाए कैसे।

बोझ होता जो गमों का तो उठा भी लेते,

जिंदगी बोझ बनी तो फिर उठाए कैसे।

128

Har Pal Kuchh Sochte Rahne Ki Adat Ho Gayi Hai,

Har Ahat Par Chuk Jaane Ki Ahat Ho Gayi Hai,

Tere Ishq Me Ai Bewafa,

Hijr Ki Raaton Ke Sang,

Humko Bhi Jagte Rahne Ki Adat Ho Gayi Hai.

129

वफा क्या होती है?

काश तुम जान जाती …

ना हम,

ना तुम अकेली होती ।

130

Bewafa To Vho Khud Thi,

Par Ilzaam Kisi Aur Ko Deti Hai

Pehele Naam Tha Mera Uske Hoton Par,

Ab Vho Naam Kisi Aur Ka Leti Hai

Kabhi Leti Thi Wada Mujhse Saath Na Chome Tha,

Ab Yehi Wada Kisi Aur Se Leti Hai!

131

Teri Dosthi Ne Diya Sukoon Ithna,

Ki Tere Baad Koi Achha Bhi Na Mile,

Tujhe Karni Tho Bewafayi Tho Is Kadar Karna,

Ki Tere Baad Koi Bewafa Bhi Na Lage.

132

आ गया है फर्क तुम्हारी नजरों में यकीनन…

अब एक खास अंदाज़ से नजर अंदाज़ करते हो हमे…

133

बिन बात के ही रूठने की आदत है,

किसी अपने का साथ पाने की चाहत है,

आप खुश रहें,

मेरा क्या है..

मैं तो आइना हूँ,

मुझे तो टूटने की आदत है।

134

Bewafaon Ki Iss Duniya Me Sambhal Kar Chalna,

Yehan Mohabbat Se Bhi Barbaad Kar Dete Hain Log.

135

कौन कहता है सिर्फ नफरतो में ही दर्द है

कभी कभी बेपनाह मोहब्बत भी बहुत दर्द देती है..

136

Bewafa To Woh Khud Thi..

Par Ilzaam Kisi Aur Ko Deti Hai..

Pehle Naam Tha Mera Uske Hothon Par..

Ab Woh Naam Kisi Aur Ka Leti Hai..

Kabhi Leti Thi Wada Mujhse Saath Na Chorne Ka..

Ab Yehi Wada Kisi Aur Se Leti Hai.

137

सुनी थी सिर्फ हमने ग़ज़लों में जुदाई की बातें ;

अब खुद पे बीती तो हक़ीक़त का अंदाज़ा हुआ !!

138

Bikhre Huye Dil Ne Bhi

Uske Liye Fariyad Mangi Meri

Sanson Ne Bhi Har Pal

Uski Khushi Mangi Jane Kya Mohabbat…

139

यूं ही हम दिल को साफ़ रखा करते थे,

पता ही नहीं था की कीमत चेहरों की होती है!

140

…Laa Tere Pairon Par Marham Laga Dun,

Kuch Chhot To Tujhe Bhi Aai Hogi Mere Dil Ko Thokar Markar

141

ये चिराग-ए-जान भी अजीब है,

कि जला हुआ है अभी तलक,

उसकी बेवफाई की आँधियाँ तो,

कभी की आ के गुजर गईं।

142

चले आज तुम ज़हां से ह्ई ज़िन्दगी पराई!

तुम्हे मिल गया ठिकाना हमे मौत भी ना आई

ओ दूर के मुसफिर हमको भी साथ लेले रे.

हमको भी साथ लेले हम रह गये एकले!

143

आँखें जो खुली तो उन्हें अपने करीब पाया ना था

कभी थे रूह में शामिल आज उनका साया ना था

बेपनाह मोहब्बत की जिनसे उम्मीदें लिये बैठे थे

उनसे तन्हाइयों की सौगातें मिलेंगी बताया ना था

एक हम ही कसीदे हुस्न के हर बार पढ़ते रहे पर

उसने तो कभी हाल-ए-दिल सुनाया ना था

Dard bhari bewafa shayari

144

दोस्ती दिल का हर गम भुला देती है

बंद आँखों में सपने सजा देती है

दोस्ती की दुनिया जरूर बनाए रखना

क्यूंकि मुहब्ब्त की दुनिया अक्सर रुला देती है

145

जिस किसीको भी चाहो वोह बेवफा हो जाता है,

सर अगर झुकाओ तो सनम खुदा हो जाता है,

जब तक काम आते रहो हमसफ़र कहलाते रहो,

काम निकल जाने पर हमसफ़र कोई दूसरा हो जाता है…

146

Vo Pyar E Kaisa Tha Unka

Jo Bewafaii Ka Naam De Gya

Vo Kehte The Jante Ae Tujhko Tujhse Jyada

Pr Bewafaii Or Majbure Ka E Na Jaan Ske

147

Aapki Yaad Na Aaye,

Tho Hum Bewafa

Aap Bulao Aur Na Aaye,

Tho Hum Bewafa,

Hume Marne Ke Liye Zeher Ki Zaroorath Nahi

Ek Baar Nazar Fer Lo,

Na Mar Jaaye To Hum Bewafa.

148

Me Tumhe Kismat Ki Lakeeron Se Chura Leta

Faqat Ek Bar Tumne Mera Hone Ka Dawa To Kiya Hota

149

Nazar Nazar Se Milegi To Sar Jhuka Lega,

Wo Bewafa Hai Mera Imtehaan Kya Lega,

Use Chirag Jalaane Ko Mat Keh Dena.

Wo Na Samajh Hai Kahin Ungliyan Jala Lega.

150

Jante The Nahi Ho Sakte Kabhi Tum Humare,

Phir Bhi Khuda Se Tumhen Magne Ki Adat Ho Gayi,

Paimane Wafa Kya Hain Hume Kya Maloom,

Ki Bewafa Se Dil Lagane Ki Adat Ho Gayi.

151

Idhar Humse Bhi Baat Lakh Karte Hain Lagawat Ki,

Udhar Gairo Se Bhi Kuchh Vaade Hote Jate Hain.

152

Har Dhadkan Main Ek Raz Hota Hai

Baat Ko Batane Ka Bhi Ek Andaz Hota Hai

Jab Tak Na Lage Thokar

153

Nikle Hum Duniya Ki Bhid Mein

To Pata Chala,

Har Wo Shakhs Tanha Hai

Jisne Pyar Kiya.

154

दर्द दे कर इश्क़ ने हमे रुला दिया,

जिस पर मरते थे उसने ही हमे भुला दिया,

हम तो उनकी यादों में ही जी लेते थे,

मगर उन्होने तो यादों में ही ज़हेर मिला दिया.

155

नादान इनकी बातो का एतबार ना कर,

भूलकर भी इन जालिमो से प्यार ना कर,

वो क़यामत तलक तेरे पास ना आयेंगे,

इनके आने का नादान तू इन्तजार ना कर!

156

Chahat Hai Kisi Chahat Ko Pane Ki,

Chahat Hai Chahat Ko Aazmane Ki,

.

Wo Chahe Hume Chahe Na Chahe Par

Chahat Hai Unki Chahat Me Mit Jane Ki.

157

Din Me Deepak Jalane Se Kya Hoga ,

Raakh Me Aag Lagane Se Kya Hoga,

Jab Aapko Aati Hi Nahi Hamari Yaad,

Toh Phir Yaad Dilane Se Kya Hoga?

158

रास्ते खुद ही तबाही के निकाले हम ने,

कर दिया दिल किसी पत्थर के हवाले हमने,

हाँ मालूम है क्या चीज़ हैं मोहब्बत यारो,

अपना ही घर जला कर देखें हैं उजाले हमने।

159

तब बहुत देर हो

चुकी होगी,

जब तुझे

हम समझ आएंगे..

160

Main Uske Haathon Ka Khilona Hi Sahi;

Kuch Der Ke Liye Hi Sahi,

Usne Mujhe Chaha To Hai..

161

Aag Dil Main Lagi Jab Vho Khafa Hue,

Mehasoos Hua Tab,

Jab Vho Juda Hue,

Karke Vafa Kuch Dhe Na Sake Vho

Par Bahut Kuch Dhe Gaye Jab Vho Bewafa Hue.

162

हमें तो कबसे पता था की तू बेवफ़ा है !

तुझे चाहा इसलिए कि शायद तेरी फितरत बदल जाये !!

163

हाथ ज़ख़्मी हुए तो कुछ अपनी ही खता थी…..

लकीरों को मिटाना चाहा किसी को पाने की खातिर….!!

164

हमें क्या पता था मौसम ऐसे रो पड़ेगा,

हमने तो आसमान को

बस अपनी दास्तां सुनाई थी|

165

Acha Hua Maloom Ho Gaya,

Apno Ki Mohabbat Ab Mohabbat Nahi Rahi,

Warna Hum Toh Apna Ghar Bhi Chhod Rahe They,

Unke Dil Main Rehne Ke Liye

166

Roye Kuchh Iss Tarah Se Mere Jism Se Lipat Ke,

Aisa Laga Ke Jaise Kabhi Bewafa Na The Wo.

167

अब ये हसरत है कि सीने से लगाकर तुझको

इस क़दर रोऊँ की आंसू आ जाये

168

मैंने जिन्दगी से पूछा..

सबको इतना दर्द क्यों देती हो ?

जिन्दगी ने हंसकर जवाब दिया..

मैं तो सबको ख़ुशी ही देती हु,

पर एक की ख़ुशी दुसरे का दर्द बन जाती है !!

169

Logon Ne Roj Hi Naya Kuchh

Manga Hai Khuda Se,

Ek Hum Hi Hain Jo Tere Khayal

Se Aage Na Gaye…

170

Woh Suna Rahe The Apni Wafao Ke Kisse,

Hum Par Nazar Padi To Khamosh Ho Gaye.

171

अभी सूरज नहीं डूबा जरा सी शाम होने दो;

मैं खुद लौट जाऊंगा मुझे नाकाम तो होने दो;

मुझे बदनाम करने का बहाना ढूंढ़ता है जमाना;

मैं खुद हो जाऊंगा बदनाम पहले मेरा नाम तो होने दो।

172

कहती है दुनिया जिसे प्यार,

नशा है ,

खताह है!

हमने भी किया है प्यार ,

इसलिए हमे भी पता है!

मिलती है थोड़ी खुशियाँ ज्यादा गम!

पर इसमें ठोकर खाने का भी कुछ अलग ही मज़ा है!

173

Pal Pal Uska Saath Nibhate Hum,

Ek Ishare Par Duniya Chor Jaate Hum,

Samnder Ke Beech Mein Pahunch Kar Fareb Kiya Usne,

Wo Kehta To Kinare Par Hi Doob Jaate Hum…

174

Teri Chokhat Se Sar Uthhau To Bewafa Kehna,

Tere Siwa Kisi Aur Ko Chahu To Bewafa Kehna,

Meri Wafaon Pe Shaq Hai To Khanzar Utha Lena,

Main Shauq Se Na Mar Jayun To Bewafa Kehna.

175

होंठो ने मुस्कुराने से मना कर दिया..

आंसुओं ने बह जाने से मना कर दिया..

एक बार जो दिल टूटा प्यार में..

फिर इस दिल ने दिल लगाने

से मना कर दिया

176

Badi Mehnat Se Meri Duniya Lutai Hogi,

Meri Mohabat Ki Hasti Mitai Hogi,

La Tere Pairon Mein Marham Laga Du,

Kyon Ki …

Mere Dil Ko Thoker Marne Mein

Tuje Chhot To Ai Hogi….

….Bewafa…

177

क्यों जिंदगी इस तरह तुम दूर हो गए

क्या बात है जो इस तरह मगरूर हो गए।

हम तरसते रहे तुम्हारा प्यार पाने को

बेवफा बनकर तुम तो मशहूर हो गए।।

178

तब बहुत देर हो

चुकी होगी,

जब तुझे

हम समझ आएंगे..

179

Chalo Aaj Khamosh Pyar Ko Ek Naam De De,

Apni Mohabbath Ko Ek Pyara Amzaam De De,

Isse Pehale Kahi Roodh Na Jaaye Mausam Apne,

Dhadakthe Hue Armaann Ek Surmayi Shaam De De.

180

वफ़ा निभा के वो हमे कुछ दे ना सके

पर बहुत कुछ दे गये जब वो बेवफा हुए

181

चर्चा हो रही थी मोहब्बत लिखने वालो की,

स्याही भटक गई तेरा नाम लिखते लिखते..

182

Latest Bewafa Shayari In Hindi

Hum Bhi Kabhi Muskuraya Karte The,

Ujale Me Bhi Shor Machaya Karte The,

Usi Diye Ne Jala Diya Mere Haatho Ko,

Jis Diya Ko Hum Hawa Se Bachaya Karthe The.

183

तेरी यादों की कोई सरहद होती तो अच्छा था

खबर तो रहती….सफर तय कितना करना है

184

तुम अगर याद रखोगे तो इनायत होगी !

वरना हमको कहां तुम से शिकायत होगी !

ये तो बेवफ़ा लोगों की दुनिया है !

तुम अगर भूल भी जाओ जो रिवायत होगी !!

185

Mohabbat Ke Sapne Dikhatae Bahut Hain,

Wo Raaton Main Humko Jaaathe Bahut Hai

Main Aankon Main Kajal Lagon To Kaisai

Inn Aankon Ko Log Rulathe Bahut Hai!

186

Apni Tanhaayi Se Tang Aa Kar..

Bahut Se Aainey Khareed Laya Hun …

187

मैंने कब कहा तू मुझे गुलाब दे…

या फिर अपनी मोहब्बत से नवाज़ दे…

आज बहुत उदास है मन मेरा…..

गैर बनके ही सही तू बस मुझे आवाज़ दे…!!

188

Main Jo Chahu To Tod Du Naata Tumse

Par Mein Buzdil Hu

Maut Se Darr Lagta Hai …

189

प्यार तो सब करते हैं पर हम जैसे नहीं

धोखा लोग देते हैं हम नहीं

एक बार प्यार करके तो देखो

हम सच्चे आंशिक हैं बेवफा नहीं

190

लफ्ज़ वही हैं,

माईने बदल गये हैं !

किरदार वही,

अफ़साने बदल गये हैं !

उलझी ज़िन्दगी को सुलझाते सुलझाते !

ज़िन्दगी जीने के बहाने बदल गये हैं !!

191

Har Bhool Teri Maaf Ki Teri Har Khata Ko Bhula Diya,

Gam Hai Ki Mere Pyar Ka Tu Ne Bewafai Sila Diya.

192

ना वो सपना देखो जो टूट जाये,

ना वो हाथ थामो जो छुट जाये,

मत आने दो किसी को करीब इतना,

कि उससे दूर जाने से इंसान खुद से रूठ जाये|

193

Uski Bewafai Pe Bhi Fida Hoti Hai Jaan Apni,

Agar Uss Me Wafa Hoti To Kya Hota Khuda Jane.

194

हम तो बिछड़े थे तुमको अपना अहसास दिलाने के लिए,

मगर तुमने तो मेरे बिना ही जीना सीख लिया..

195

प्यार में बेवाफाई मिले तो गम न करना;

अपनी आँखे किसी के लिए नम न करना;

वो चाहे लाख नफरते करें तुमसे;

पर तुम अपना प्यार कभी उसके लिए कम न करना।

196

बस इतनी सी ही कहानी थी

मेरी मोहब्बत की मौसम की तरह तुम बदल गए,

फसल की तरह मैं बरबाद हो गया|

197

Humne Bhi Kisi Se Pyar Kiya Tha,

Haatho Me Phool Lekar Intezaar Kiya Tha

Bhool Unki Nahi Bhool Tho Humari Thi,

Kyunki Unhone Nahi,

Humne Unse Pyar Kiya Tha.

198

आंसुओं की किम्मत क्या है

हम बखुबी समझते है ।

वो कोई और होंगे ए सनम

जो ओस को शबनम समझते है ॥

199

Nahi Mila Koi

Tum Jaisha Aaj Tak,

Per Ye Sitam Alag Hai,

Ki Mile Tum Bhi Nahi.

200

जुल्मो सितम सहते रहे एक बेवफा की आस मे !

डुबो दिया मुझे दरिया ने दो घूट की प्यास में !!

201

दर्द हैं दिल में पर इसका ऐहसास नहीं होता,

रोता हैं दिल जब वो पास नहीं होता,

बरबाद हो गए हम उनकी मोहब्बत में,

और वो कहते हैं कि इस तरह प्यार नहीं होता!

202

अच्छा हुआ

कि तूने हमे तोड़ कर रख दिया,

घमंड भी तो बहुत था

हमे तेरे होने का….

203

Zindagi Guzar Gayi Dil Ko Samachne Main,

Pyar Ke Un Kisso Ko Bhoolne Me

Samach Baidai The Jise Zindagi Apana

Vho Shamil Thi Meri Barbadi Ka Jashn Manane Me

204

मुझसे मेरी वफ़ा का सबूत मांग रहा है !

खुद बेवफ़ा हो के मुझसे वफ़ा मांग रहा है !!

205

आग दिल में लगी जब वो खफ़ा हुए !

महसूस हुआ तब,

जब वो जुदा हुए !

करके वफ़ा कुछ दे ना सके वो !

पर बहुत कुछ दे गए जब वो बेवफ़ा हुए !!

206

मेरे कलम से लफ्ज़ खो गए सायद

आज वो भी बेवफा हो गाए सायद

जब नींद खुली तो पलकों में पानी था

मेरे ख्वाब मुझपे रो गाए सायद

207

Har Aankh Yahan Yun To Bahut Roti He,

Har Boond Magar Ashk Nahi Hoti He,

Par Dekh K Ro De Jo Zamaane Ka Gam,

Us Aankh Se Aansu Jo Gire Moti He…

208

Sukoon Apna Dil Ka Maineravo Diya,

Khud Ko Thanhayi Ke Smandar Me Doobe Diya

Jho Thi Mere Kabhi Muskuraane Ki Vachaa,

Aaj Uski Kami Ne Meri Palako Ko Bhigo Diya.

209

Dekhi Hotho Ki Hasi Zakham Na Dekhe Dil Ka,

Aap Bhi Oron Ki Tarha Kha Gae Dhokha Keishe!

210

Usko Bewafa Keh Kar Apni Hi

Nazro Me Gir Jate Hain Hum.

Wo Pyar Bhi Apna Tha

Wo Pasand Bhi Apni Thi

211

Main Chahta Hun Aik Aasiyana Ho

Jo Wabasta Sirf Tum Se Ho

212

Har Heera Chamakdar Nahi Hota,

Har Samandar Gahra Nahi Hota

Doston Jara Samhal Kar Pyar Karna,

Har

213

मैंने कब कहा तू मुझे गुलाब दे.

या फिर अपनी मोहब्बत से नवाज़ दे.

आज बहुत उदास है मन मेरा.

गैर बनके ही सही तू बस मुझे आवाज़ दे!

214

बस इतना बता दो ,

इंतज़ार करू या बदल जाऊ ?

215

Hume Bhi Pyar Karne Ka Khayal Aaya,

Jab Bhi Yeh Khayaal Aaya Khud Ko Akela Paya

Dhoonthe Rahe Is Duniya Me Humsafar.

Kisi Ko Dhoke Baaz,

Kisi Ko Bewafa Hi Paya.

216

Jaruri Nahi Ki Har Rishta Bewafai Ke Sath He Khatm Ho,

Kuch Rishte Kisi Ki Khushi Ke Liye Bhi Todne Padte Hain!

217

दूसरों की मानोगे तो मुझे

बुरा ही पाओगे,

लेकिन

खुद मिलोगे तो वादा रहा,

मुस्कुरा कर जाओगे!

218

Uske Chehre Par Is Kadar Noor Tha,

Ki Uski Yaad Me Rona Bhi Manjoor Tha,

Bewafa Bhi Nahi Kah Sakte Usko ‘Faraz’,

Pyar To Humne Kiya Hai Wo To Bekasoor Tha.

219

उम्र ने तलाशी ली,

तो जेबों से लम्हे बरामद हुए..

कुछ ग़म के,

कुछ नम थे,

कुछ टूटे,

कुछ सही सलामत थे..

220

Thumhari Har Ek Baath Bewafai Ki Kahaani Hai,

Lekin Teri Har Ek Saans Meri Zindagi Ki Nisani Hai,

Tum Aaj Tak Samajh Nahi Paye Mere Iss Pyar Ko,

Mere Aasu Bhi Thumhare Liye Sirf Paani Hai.

221

न मेरा एक होगा ,

न तेरा लाख होगा,

तारिफ तेरी ,

न मेरा मजाक होगा,

गुरुर न कर शाह-ए-शरीर का,

मेरा भी खाक होगा ,

तेरा भी खाक होगा

222

मिल जायेगा हमें भी कोई टूट कर चाहने वाला !

अब शहर का शहर तो बेवफा नहीं हो सकता !!

223

वो छोड़ के गए हमें;

न जाने उनकी क्या मजबूरी थी;

खुदा ने कहा इसमें उनका कोई कसूर नहीं;

ये कहानी तो मैंने लिखी ही अधूरी थी।

224

नाकाम मोहब्बतें भी बड़े काम की होती हैं

दिल मिले ना मिले नाम मिल जाता है..!

225

तुम समझ लेना बेवफा मुझको,

मै तुम्हे मगरूर मान लूँगा

ये वजह अच्छी होगी ,

एक दूसरे को भूल जाने के लिये

226

हसीनो ने हसीन बनकर गुनाह किया,

औरों को तो ठीक पर हम को भी तबाह किया,

अर्ज़ किया जब ग़ज़लों मे उनकी बेवफ़ाई को तो,

औरों ने तो ठीक उन्होने भी वा वा किया

227

खन खना खन है ख्यालों में

जरुर आज उसने कंगन पहने होंगे

228

वो फिरते रहे दिल में ना जाने कितने राज लिये

हमने तो कभी उनसे जज्बातों को छुपाया ना था

जाने क्यों हम बेवजह मदहोश हुआ करते थे

जाम आँखों से तो कभी उसने पिलाया ना था

मीलों कब्ज़ा कर बना रखा था सपनों का महल पर

उसने वो ख़्वाब कभी आँखों में सजाया ना था

धड़कन ‘मौन’ हुई अब एक आह की आवाज़ है

शिकवा क्या उनसे जिसने कभी अपना बनाया ना था.

229

Iss Daur Mein Ki Thi Jis Se Wafa Ki Umeed,

Aakhir Ko Usi Ke Haath Ka Patthar Laga Mujhe.

230

मेरी दोनों कोशिशें कभी कामयाब ना हो सकी

पहला तुझे पाने की फिर तुझे भूल जाने की

231

Kisi Ki Khatir Mohabbat Ki Inteha Kar Do,

Lekin Itna Bhi Nahi Ki Usko Khuda Kar Do,

Mat Chaho Kisi Ko Tut Kar Is Kadar Itna,

Ki Apni Wafaon Se Usko Bewafa Kar Do.

232

याद आयेगी हमारी तो बीते कल को पलट लेना

यूँ ही किसी पन्ने में मुस्कुराते हुए मिल जायेंगे.

233

ये बेवफा,

वफा की कीमत क्या जाने !

ये बेवफा गम-ए-मोहब्बत क्या जाने !

जिन्हे मिलता है हर मोड पर नया हमसफर !

वो भला प्यार की कीमत क्या जाने !!

234

Na Puchh Mere Sabra Ki Inteha Kahan Tak Hai,

Tu Sitam Kar Le Teri Hasrat Jahan Tak Hai,

Wafa Ki Umeed Jinhe Hogi Unhe Hogi,

Hame To Dekhna Hai Tu Bewafa Kahan Tak Hai.

235

अरे बेपनाह मोहब्बत की थी हमने तुझसे ओ बेवफा!

तुझे दुःख दूं ये न होगा कभी खुद मर जाऊं यहीं ठीक है!

236

Kabhi Vakth Mile Tho Rakhna Kadam..

Mere Dil Ke Aangan Main

Hairan Rah Jaaoge Mere Dil Main…

Apna Makkaam Dekhkar

237

हर किसी के नसीब में

कहां लिखी होती है चाहतें

कुछ लोग दुनिया में आते है सिर्फ

तन्हाइयो के लिए

238

Jo Dil Ke Ho Kareeb Usse Russwa Nahi Sakthe,

Yoon Apni Dosthi Ka Thamasha Nahi Karthe

Khamosh Rahoga…. Tho Khudan Aur Badhegi,

Apno Se Koi Baath Chupaaya Nahi Karthe.

239

Aag Dil Me Lagi Jab Wo Khafa Hue,

Mehasoos Hua Tab,

Jab Vho Juda Hue,

Karke Wafa Kuchh De Na Sake Vho,

Per Bahut Kuch De Gaye Jab Vho Bewafa Hue.

240

साथ रोती थी हँसा करती थी

एक परी मेरे दिल में बसा करती थी

किस्मत थी हम जुदा हो गए वरना वो

मुझे अपनी तकदीर कहा करती थी

241

टूटे हुए दिलो की जरुरत बहुत हैं

वरना महफ़िल में रंग जमायेगा कौन

जब टूटेगा ही नहीं दिल किसी का

तो मयखाने में पीने आएगा कौन.

242

दो दिलों की धड़कनों में एक साज़ होता है;

सबको अपनी-अपनी मोहब्बत पर नाज़ होता है;

उसमें से हर एक बेवफा नहीं होता;

उसकी बेवफ़ाई के पीछे भी कोई राज होता है!

243

जिस जिस ने मुहब्बत में,

अपने महबूब को खुदा कर दिया,

खुदा ने अपने वजूद को बचाने के लिए,

उनको जुदा कर दिया…

244

Humse Poocha Kya Hota Hai Pal Pal Bithana,

Bahut Mushkil Hota Hai Dil Ko Samchaana

Yaar Zindagi Tho Beeth Jaayegi,

Bus Mushkil Hota Hai Kuch Logo Ko Bhool Pana.

245

Tera Khayal Dil Se Mitaya Nahi Abhi,

Bewafa Maine Tujhko Bhulaya Nahi Abhi.

246

Karni Hai Khuda Se Ek Guzarish

Teri Dosti Ke Siva Koi Bandgi Na Mile.

Har Zanam Mein Mile Dost Tere Jaisa

Ya Phir Kabhi Zindgi Na Mile.

247

Vo Samjhta Hai Ki Har Shakhs Badal Jata Hai…..

Ussey Lagta Hai Zamana Us Ke Jaisa Hai….

248

सुकून की तलाश में हम दिल बेचने निकले थे

खरीददार दर्द भी दे गया और दिल भी ले गया|

249

बड़ी अजीब मुलाकाते होती थी हमारी;

वो मतलब से मिलते थे.

और हमें मिलने से मतलब था!

250

Tum Laut K Anay Ka Takalluf Mat

Karna,

Hum Ek Mohabbat Ko Do Baar Nahi Kartay…

251

Do Dilo Ki Dhadkano Ne Ek Saaz Hota Hai,

Sabko Apni Apni Mohabbat Par Naaz Hota Hai,

Usme Se Har Ek Bewafa Nahi Hota,

Uski Bewafai Ke Peechhe Bhi Koi Raaz Hota Hai.

252

मोहब्बत का नतीजा दुनिया में हमने बुरा देखा,

जिन्हें दावा था वफ़ा का,

उन्हें भी हमने बेवफा देखा..

253

कहती है दुनिया जिसे प्यार,

नशा है ,

खताह है!

हमने भी किया है प्यार ,

इसलिए हमे भी पता है!

मिलती है थोड़ी खुशियाँ ज्यादा गम!

पर इसमें ठोकर खाने का भी कुछ अलग ही मज़ा है!

254

हर मुलाक़ात पर वक़्त का तकाज़ा हुआ ;

हर याद पे दिल का दर्द ताज़ा हुआ!

255

Jis Jagah Jaakar Koee Vaapas Nahin Aata

Jaane Kyon Aaj Vahaan Jaane Ko Jee Chaahata Hai

256

Koun Kehta Hai Hum Uske Bina Mar Jayenge,

Hum To Dariya Hai Samundar Main Utar Jayenge,

Wo Taras Jayenge…

257

मुस्कुराते पलको पे सनम चले आते हैं,

आप क्या जानो कहाँ से हमारे गम आते हैं,

आज भी उस मोड़ पर खड़े हैं,

जहाँ किसी ने कहा था कि ठहरो हम अभी आते है।

258

मुझको ढूंढ लेती है रोज़ एक नए बहाने से

तेरी याद वाक़िफ़ हो गयी है मेरे हर ठिकाने से

259

इस तरह मिली वो मुझे सालों के बाद,

जैसे हक़ीक़त मिली हो ख़यालों के बाद,

मैं पूछता रहा उस से ख़तायें अपनी,

वो बहुत रोई मेरे सवालों के बाद!!

260

अब तो शायद ही मुझसे मुहब्बत करेगा कोई

तेरी तस्वीर जो मेरी आखों में साफ़ नजर आती है

261

Ek Raat Dhadkan Ne Aankh Se Pucha.

Tu Dosti Me Itni Kyu Khoi Hai?

Tab Dil Se Awaj Aayi Doston Ne Hi

Saari Khusiyan Di Hai,

Warna Pyar Karke Toh Ankh Royi Hai.

262

बेबस निगाहों में है तबाही का मंज़र,

और टपकते अश्क की हर बूंद

वफ़ा का इज़हार करती है.

डूबा है दिल में बेवफाई का खंजर,

लम्हा-ए-बेकसी में तसावुर की दुनिया

मौत का दीदार करती है.

ऐ हवा उनको कर दे खबर मेरी मौत की..और कहेना,

के कफ़न की ख्वाहिश में मेरी लाश

उनके आँचल का इंतज़ार करती है.

263

दर्द है दिल में पर इसका एहसास नहीं होता;

रोता है दिल जब वो पास नहीं होता;

बर्बाद हो गए हम उसके प्यार में;

और वो कहते हैं इस तरह प्यार नहीं होता

264

Teri Wafa Ke Takaaje Badal Gaye Varna,

Mujhe To Aaj Bhi Tujhse Azeez Koi Nahi.

265

Ek Tere Na Rehne Se Badal

Jaata Hai Sab Kuch……

Kal Dhoop Bhi Deewar Pe

Poori Nahi Utri…

266

कौन कहता है मुझे ठेस का एहसास नहीं,

जिंदगी एक उदासी है जो तुम पास नहीं,

मांग कर मैं न पियूं तो यह मेरी खुद्दारी है,

इसका मतलब यह तो नहीं है कि मुझे प्यास नहीं.

267

Ek Gazal Tere Liye Jarur Likhunga Be-Hisab

Us Mein Tera Kasoor Likhunga Tut Gaye Bachpan Ke

Tere Sare Khilone Ab Dilo Se Khelna Tera Dastur Likhunga!

268

ठीक है बदल जाओ तुम,

लेकिन ये याद रखना की हम बदल गए

तो तुम करवटे बदलते रह जाओगे.

269

Mohabbat Ka Natija Duniya Mein Humne Bura Dekha,

Jinhe Dava Tha Wafa Ka Unhen Bhi Humne Bewafa Dekha.

270

यूं ही हम दिल को साफ़ रखा करते थे,

पता ही नहीं था की कीमत चेहरों की होती है!

271

हमसे पूछो क्या होता है पल पल बिताना,

बहुत मुश्किल होता है दिल को समझाना,

यार ज़िन्दगी तोह बीत जायेगी,

बस मुश्किल होता है कुछ लोगो को भूल पाना. |

272

Dil Ki Dahleez Par Rakh Kar Teri Yaadon Ke Chiraag

Humne Duniyan Ko Mohabbat Ke Ujaale Bakhshey

273

Kya Baat Hai Bare Chupchap Bathe Ho,

कोई बातदिल पे लगी है या दिल कही लगा बैठे हो.

274

Aa Choo Le Aazmaan,

Zameen Ki Aaz Na Kar,

Jee Le Yah Zindagi,

Khushiyon Ki Talash Na Kar,

Gamon Ko Kar Door,

Teri Kismath Bhi Badalegi,

Muskurana Seekh,

Usse Paanr Ki Chahath Naa Kar.

275

हमे बेवफा बोलने वाले

आज तू भी सुनले,

जिनकी फितरत ‘बेवफा’

होती है,

उनके साथ कब ‘वफा’ होती है!!

276

Hum Is Kabil To Nahi Ke Koi Humein Apna Samjhega,

Lekin Itna To Yaqeen Hai Koi Royega

Boho0At Hume Kho Dene Ke Baad…

277

टूट कर बिखर जाते है वो लोग

मिट्टी की दीवारों की तरह,

जो खुद से भी ज्यादा किसी ओर से

मोहब्बत किया करते है|

278

Na Pooch Mere Sab Ki Inthehaa Kahaan Tak Hai

Thu Sitam Kar Le Teri Hazarat Jahaan Tak Hai

Vafa Ki Ummeed Jinhe Hogi Unhe Hogi,

Hume Tho Dekhna Hai Thu Bewafa Kahaa Tak Hai

279

चलो छोड़ो ये बहस कि वफ़ा किसने की

और बेवफा कौन है

तुम तो ये बताओ कि आज ‘तन्हा’ कौन है !!

280

Tujh Se Nahi Waqt Se Naraz Hu Main

Jo Kabhi Tumko Mere Liye Nahi Milta!

281

Insaan Ke Kandho Par Insaan Ja Raha Tha,

Kafan Me Lipata Hua Armaan Ja Raha Tha,

Jise Bhi Mili Bewafai Mohabbat Me,

Wafa Ki Talash Me Shamshaan Ja Raha Tha.

282

Ho Jaun Itna Madhosh Tere Pyar Mai

Ke Hosh Bhi Aane Ki Ijaazat Maange..

283

Dil Me Gam Ankho Me Naam Si Hai,

Sukhe Huye Hoto Par Jhuti Hansi Si Hai,

Tera Diya Dard Hai Is Baath Ki Khushi Si Hai,

Mujhe Jeene Ke Liye Bas Teri Kami Si Hai.

284

हम तो तेरे दिल की महफ़िल सजाने आए थे;

तेरी कसम तुझे अपना बनाने आए थे;

किस बात की सजा दी तुने हमको बेवफा;

हम तो तेरे दर्द को अपना बनाने आए थे।

285

कौन कहता है

सिर्फ नफरतों में ही दर्द है

कभी कभी बेपनाह मोहब्बत भी

बहुत दर्द देती है..

286

वो रो रो कर कहती रही मुझे नफरत है तुमसे,

मगर एक सवाल आज भी परेशान किये हुए है,

की अगर नफरत ही थी तो वो इतना रोई क्यों …

287

खुश रहना तो हमने भी सीख लिया था

उनके बगैर

मुद्द्त बाद उन्होने हाल पूछ के फिर

बेहाल कर दिया..

288

तो क्या हुआ जो आप नहीं मिलते हमसे.,

मिला तो रब भी नहीं हमसे,

पर इबादत कहां रुकी हमसे..

289

ये बेवफा,

वफा की कीमत क्या जाने !

ये बेवफा गम-ए-मोहब्बत क्या जाने !

जिन्हे मिलता है हर मोड पर नया हमसफर !

वो भला प्यार की कीमत क्या जाने !!

290

Kabhi Gham To Kabhi Tanhai Maar Gayi,

Kabhi Yaad Aakar Unki Judai Maar Gayi,

Bahut Toot Kar Chaha Jisko Humne,

Aakhir Me Uski Bewafai Maar Gayi.

291

छू गया जब कभी ख्याल तेरा,

दिल मेरा देर तक धड़कता रहा,

कल तेरा ज़िक्र छिड़ गया घर में,

और घर देर तक महकता रहा।

292

बिखरे थे जो अल्फ़ाज इस कायनात में

समेंटा है उन्हें चंद पन्नों की किताब में

अब दुआ नहीं मांगता बस पूंछता हुं खुदा से

अभी कितनी सांसे और हैं हिसाब में..??

293

Agar Duniya Me Jeene Ki Chahat Na Hoti,

To Khuda Ne Mohabbat Banayi Na Hoti,

Iss Tarah Log Marne Ki Aarzoo Na Karte,

Agar Mohabbat Me Kisi Ki Bewafai Na Hoti.

294

Aap Bewafa Honge Kabhi Socha Hi Nahi Tha,

Aap Kabhi Khafa Honge Socha Hi Nahi Tha,

Jo Geet Likhe Humne Kabhi Pyaar Par Tere,

Wahi Geet Ruswa Honge Socha Hi Nahi Tha.

295

Na Miltha Gum Tho Barbadi Ke Afasane Kaha Jaate,

Duniya Agar Hoti Chaman To Wiraane Kaha Jaate,

Chalo Achha Hua Apnom Main Koi Gair To Nikale,

Sabhi Agar Hote Apne To Begane Kaha Jaathe…..

296

Tujhe Hai Mashq-E-Sitam Ka Malaal Waise Hi,

Humari Jaan Hain Jaan Par Wabaal Waise Hi.

Chala Tha Zikr Zamaane Ki Bewafai Ka,

To Aa Gaya Hai Tumhara Khayal Waise Hi.

297

Saar Jhukaoge To Patthar Bhi Devta Ho Jayega!

Etna Mat Chaho Use Wo Bewafa Ho Jayega

298

अल्फाज़ तो बहुत है मोहब्बत को जताने के लिए !

जो मेरी खामुशी नहीं समझ सका वो

मेरी मोहब्बत क्या समझे गा !!

299

Na Samajh Sakoge Qayamat Tak Jise Tum,

Qasam Tumhari Tumhen Itna Pyar Karte Hain..

300

Tu Saath Hokar Bhi Saath Nahi Hoti

Ab Toh Rahat Mein Bhi Rahat Nahi Hoti…

301

Tere Ishq Ne Diya Sukun Etna Ki.

Tere Baad Koi Accha Na Lage

Tujhe Karni Hai Bewafai To Is Ada Se Kar Ki Tere

302

जानते हो मोहब्बत किसे कहते है

किसी को दिल से चाहना

उसे हर जाना

और फिर खामोश रहना..!!

303

मैंने उस से वफ़ा की उम्मीद लगा रखी थी दोस्तों !

जिसके चर्चे आम थे बाजार में बेवफाई के दोस्तों !!

304

Meri Barbaadi Par Thu Koi Malal Naa Karna,

Bhool Jaana Mera Khyal Na Karna;

Hum Teri Khushi Ke Liye Kafan Aud Lenge

Par Thum Meri Lash Se Koi Sawaal Math Karna.

305

Kaun Kisi Ke Bina Yaha Marta Hai,

Saase Tho Har Ek Ko Leni Padthi Hai,

Par Us Zindagi Ka Bhi Kya Kare,

Jab Har Din Mauth Magani Padthi Hai.

306

Teri To Fitrat Thi Sabse Mohabbat Karne Ki,

Hum Bewajah Khud Ko Khush Naseeb Samjhne Lage.

307

Wo Nikal Gaye Mere Raste Se Is Kadar Ki,

Jaise Ki Wo Mujhe Pahchante Nahi,

Kitne Jakhm Khaye Hain Mere Is Dil Ne,

Fir Bhi Hum Us Bewafa Ko Bewafa Mante Hi Nahi.

308

वो चैन से बैठे हैं मेरे दिल को मिटा कर

ये भी नहीं अहसास के क्या चीज़ मिटा दी

309

Itne Lamhe Guzare Hai Tere Saath Humne

Ke Aaj Ek Lamha Tanha Guzarna Mushkil Hain.

310

बिन बात के ही रूठने की आदत है,

किसी अपने का साथ पाने की चाहत है,

आप खुश रहें,

मेरा क्या है.

मैं तो आइना हूँ,

मुझे तो टूटने की आदत है।

311

बिखरा वज़ूद,

टूटे ख़्वाब,

सुलगती तन्हाईयाँ

कितने हसींन तोहफे दे जाती है ये

अधूरी मोहब्बत।

312

सुना है प्यार करने वाले बड़े अजीब होते है

खुशी के बदले गम नसीब होते है|

मेरे दोस्त मोहब्बत ना करना कभी.

क्योकि

प्यार करने वाले बड़े बदनसीब होते है|

313

Tum Agar Yaad Rakhoge Toh Inayat Hogi,

Varna Humko Kahaan Thum Se Shikhayat Hogi,

Yeh Tho Vahi Bewafa Logon Ki Duniya Hai,

Tum Agar Bhool Bhi Jao Toh Riwayaath Hogi.

314

कभी जो हम से प्यार बेशुमार करते थे,

कभी जो हम पर जान निसार करते थे,

भरी महफ़िल में हमको बेवफा कहते हैं,

जो खुद से ज़्यादा हमपर ऐतबार करते थे।

315

अब कभी हम ना मिलेंगे

एक बार जुदा होने के बाद

अब बता देना मुश्किलों को भी

नया घर तलाश कर लो

सारी मुश्किलें ख़त्म हो जाएँगी

तुझसे बिछड़ने के बाद

316

वो छोड़ के गए हमें,

न जाने उनकी क्या मजबूरी थी,

खुदा ने कहा इसमें उनका कोई कसूर नहीं,

ये कहानी तो मैंने लिखी ही अधूरी थी..

317

Humein Na Mohabbat Mili Na Pyar Mila

Hum Ko Jo Bhi Mila Bewafa Yaar Mila!

Apni To Ban Gai Tamasha Zindagi

Har Koi Apne Maksad Ka Talabgar

318

भरोसा जितना कीमती होता है

धोखा उतना ही महँगा हो जाता है।

319

हर एक हसीन चेहरे में गुमान उसका था,

बसा न कोई दिल में ये मकान उसका था,

तमाम दर्द मिट गए मेरे दिल से लेकिन,

जो न मिट सका वो एक नाम उसका था।

320

साथ रोती थी हँसा करती थी

एक परी मेरे दिल में बसा करती थी

किस्मत थी हम जुदा हो गए वरना वो

मुझे अपनी तकदीर कहा करती थी

321

वो तो अपना दर्द रो-रो कर सुनाते रहे,

हमारी तन्हाइयों से भी आँख चुराते रहे,

हमें ही मिल गया खिताब-ए-बेवफा क्योंकि,

हम हर दर्द मुस्कुरा कर छुपाते रहे।

322

Dekh Ke Teri Aankon Me,

Pal Pal Jiya Hum Me,

Tujhe Dekh Kisi Ko Baahom Me,

Har Pal Mera Hum Me,

Saath Tera Jab Tak Tha,

Zindagi Se Vafa Mein Kartha Tha,

Ab Saath Nahi Jab Tera,

Me Vafa Mauth Se Kartha Hum.

323

दिल से रोये मगर होंठो से मुस्कुरा बेठे,

यूँ ही हम किसी से वफ़ा निभा बेठे,

वो हमे एक लम्हा न दे पाए अपने प्यार का,

और हम उनके लिये जिंदगी लुटा बेठे..

324

क्यों जिंदगी इस तरह तुम दूर हो गए

क्या बात है जो इस तरह मगरूर हो गए।

हम तरसते रहे तुम्हारा प्यार पाने को

बेवफा बनकर तुम तो मशहूर हो गए।।

325

Meri Dehleez Par Aa Ruki Hai Mohabbat

Ab Kya Karoon Tu Hi Bata Aye Mere Khuda…

Mehmaan Nawazi Ka Shoq Bhi Hai

Aur Ujad Jane Ka Khauf Bhi

326

आंसुओं की बूँदें हैं या आँखों की नमी है,

न ऊपर आसमां है न नीचे ज़मी है,

यह कैसा मोड़ है ज़िन्दगी का,

उसी की ज़रूरत है और उसी की कमी है.

We hope you loved our bewafa shayari list. We have worked hard to bring out the best bewafa shayari at your fingertips. Feel free to share this bewafa shayari article on social media.
Also, if we have missed out any of your favorite bewafa shayari then drop us a comment and we will include it in our list.
So which was your favorite bewafa shayari on this list?

Like and Share our FB page :)

Enjoy the awesome collection of Shayari.